व्यंग्य : साथी हाथ छुड़ाना रे...



हर की लय, वहां कार्य से फर्जी एनकाउंटर करने वाले कर्मचारियों की कुशलता में लीन रहकर अंततोगत्वा अपने प्रारब्ध में ही विलीन हो जाती है। कार्यालय में कार्य करने वाले आपके सहकर्मी, कार्यस्थल को घटनास्थल बनाने के लिए दिल और जान को उचित मात्रा में मिलाकर मास्टरशेफ के रूप में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

में प्रदर्शित किए गए अच्छे स्टंट्स किसी भी व्यक्ति को अच्छे सहकर्मी मिलने का गारंटी कार्ड नहीं दिलवा सकते हैं। अगर गलती से अच्छे सहकर्मी बरामद भी कर लिए जाएं तो उनकी मेंटेनेंस भी बहुत महंगी पड़ती है। सहकर्मी अपनी अच्छाई को पूरी कुशलता से जकड़े रहे, इसके लिए आवश्यक है कि आप समय-समय अपनी जेबें ढीली छोड़कर उन्हें 'चाय-पानी' से नहलाते रहें।
उन लोगों को ही अच्छा सहकर्मी माना व 'सहकर्मी धर्म' में ईश निंदा के समान माना जाता है, जो आपको केवल ऑफिस के कार्य में मदद करके अपना पल्ला झाड़ लेते हैं। ऑफिस में ऐसे व्यक्तियों से सुरक्षित दूरी बनाकर चलना चाहिए, जो कार्य और कार्यालय के प्रति गंभीर रुख से पीड़ित होते हैं। ऐसे लोगों से स्वयं सावधान रहने और दूसरों को जागरूक करना ही समय और हर एम्प्लॉयी यूनियन की मांग है। आप उनकी चपेट में न आएं इसीलिए गंभीरता, ईमानदारी और कार्य के प्रति समर्पण जैसे ज्वलनशील पदार्थों को लेकर ऑफिस की सवारी न करें।
अच्छे सहकर्मी के पद पर केवल वही महात्मातुल्य इंसान आसीन होने योग्य है, जो न केवल स्वयं ऑफिस के कार्य से बेइंतहा नफरत करे बल्कि आपको भी इसके लिए समय-समय पर नेट प्रैक्टिस करवाए।

कार्य और कार्यस्थल से जो रोज जल्दी पीछा छुड़वाए, वे सहकर्मी ही आपके हितों के सच्चे ट्रस्टी होते हैं। आपके हितैषी सहकर्मी काम के लिए 'साथी हाथ बढ़ाना रे...' के बदले हमेशा 'साथी हाथ छुड़ाना रे...' का कोरस गान करते रहते हैं। स्वभाव में नरमी और थोड़ी बेशर्मी लाकर कोई भी कर्मचारी एक योग्य सहकर्मी बनने की अर्हता प्राप्त कर लेता है।
कई सहकर्मी बहुत नाजुक प्रकृति के होते हैं, तो कई सहकर्मी 'ना झुक' स्वभाव के होते हैं। नाजुक सहकर्मी कार्य के प्रति काफी संवेदनशील होने से कार्य के करीब आने से बचते हैं ताकि कार्य के हानिकारक विकिरण उन्हें नुकसान या उलाहना न पहुंचा सके।

'ना झुक' स्वभाव के सहकर्मी कार्य से घबराते नहीं हैं बल्कि ताल ठोककर कार्य को अपने पास आने के लिए ललकारते हैं। इनकी गर्जना सुनकर कार्य इनके निकट आने के बदले दूर से ही कट ले लेता है। दोनों तरह के सहकर्मी अपने स्वभाव पर अडिग रहकर, वर्कोहॉलिक कर्मचारियों के दबाव में न आकर हमेशा अपना स्वाभाविक प्रदर्शन करते हैं ताकि बाकी लोगों का उन पर से भरोसा न उठ पाए।
बॉस द्वारा नामजद सहकर्मी हमेशा गर्मजोशी से मुठभेड़ करते हैं और बिना मुट्ठी गर्म किए कभी कोई काम स्वाहा नहीं करते हैं। ऐसे सहकर्मी सभी से गर्मजोशी बनाए रखते हैं ताकि वाजिब-गैरवाजिब शिकायतों को ठंडे बस्ते में रखा जा सके।

एक कुशल सहकर्मी की निशानी होती है कि वो अपने सारे अवगुणों को पूरे ऑफिस में महामारी की तरह फैला दे ताकि पूरा ऑफिस इसकी चपेट में आ जाए। इस तरह से ऑफिस में एक ही तरह का वायरस डिटेक्ट होने से न केवल सभी कर्मचारियों में ऊंच-नीच का भेद मिटेगा और टीम भावना का विकास होगा बल्कि ऑफिस के सर्वर में एंटीवायरस सॉफ्टवेयर को भी ज्यादा परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। एक उत्तम सहकर्मी हमेशा अपने मुखमंडल पर स्थायी असंतुष्टि का भाव लिए रहता है और अपने साथियों को भी इसी भाव से मैकअप कर बॉस को आकर्षित करने के लिए उकसाता है।
सरकार को एक अधिसूचना जारी कर कामकाजी व्यक्ति के लिए धर्मनिरपेक्ष होना प्रतिबंधित किया जाना चाहिए, क्योंकि उसके लिए सहकर्मी धर्म का पालन करना अनिवार्य होता है। सहकर्मी धर्म का अच्छी तरह से अनुकरण करने पर इंसान बिना किसी अतिरिक्त प्रयास के ही सभी कार्यालयीन कार्यों का 'श्राद्ध' करने में समर्थ हो जाता है।

नास्तिक लोगों से बचते हुए सहकर्मी धर्म का दृढ़ता से पालन करके ही इंसान ऑफिस में मोक्षगति को प्राप्त हो सकता है, जो कि कार्यकारी जीवन की सद्गति के लिए परम आवश्यक है।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :