मुंगेर के निसार हैं 'लावारिस शवों के मसीहा'

पुनः संशोधित सोमवार, 6 अगस्त 2018 (17:29 IST)
जहां धर्म और मजहब के नाम पर हिंदू और मुसलमानों के बीच तनाव की खबरें सुर्खियों में आती रहती है, बिहार के मुंगेर में एक ऐसा शख्स है जो जिंदा व्यक्तियों की तो बात छोड़ दीजिए, शवों में भी धर्म और मजहब का अंतर नहीं करता।

के निमतल्ला मुहल्ले के बासी अपने और अपने परिवारों के गुजर-बसर के लिए घर के पास ही पकौड़े की दुकान चलाते हैं। लेकिन उन्होंने समाज की सेवा करने का बीड़ा भी उठा रखा है। वे लावारिश शवों की इज्जत के साथ अंत्येष्टि करने में कोई कोताही नहीं बरतते। 82 वर्षीय बासी अब तक 2092 शवों का कर चुके हैं।

लावारिस शवों का अंतिम संस्कार करने की प्रेरणा उन्हें अपने पिता मोहम्मद हाफिज अब्दुल माजिद से मिली। शुरू में वे ऐसे ही लावारिस शवों का अंतिम संस्कार कर दिया करते थे, परंतु 1958 में अंजुमन मोफीदुल इस्लाम संस्था की स्थापना कर यह काम उसी के माध्यम से करने लगे। इस संस्था का उद्घाटन उस समय के विधानसभा अध्यक्ष गुलाम सरवर ने किया था।


निसार कहते हैं कि वे शवों को उनके मजहब और रीति-रिवाज के साथ ही अंतिम संस्कार करने की कोशिश करते हैं। उनका कहना है कि वे मुसलमानों के शवों को दफनाते हैं जबकि पहचान में आने वाले हिंदुओं के शवों को श्मशान में ले जाकर अंतिम संस्कार करते हैं। गौरतलब है कि वे शवों के अंतिम संस्कार के पूर्व उसकी तस्वीर लेना नहीं भूलते। निसार ने शहर में औरंगजेब द्वारा बनवाई गई जामा मस्जिद के एक कोने में बैठकखाना बना रखा है, जहां किसी और की नहीं, बल्कि इन लावारिस शवों की ही तस्वीरें लगी हैं।

शवों के अंतिम संस्कार में आने वाले खर्च के विषय में पूछे जाने पर निसार बताते हैं, "एक शव के अंतिम संस्कार में दो से तीन हजार रुपये खर्च पड़ते हैं। इस राशि का इंतजाम कुछ चंदा और आसपास के लोगों की मदद द्वारा पूरी कर ली जाती है परंतु खर्च पूरा नहीं होने की स्थिति में वे खुद को मिलने वाली वृद्धावस्था पेंशन की राशि से करते हैं।"


'लावारिस शवों के मसीहा' के नाम से प्रसिद्ध निसार कहते हैं कि उन्हें इस काम से सुकून मिलता है। उनके निःस्वार्थ प्रयासों को स्थानीय प्रशासन भी मानता है। थाना अधिकारी भी लावारिस शवों का अंतिम संस्कार करने में उनकी सहायता लेते हैं। ताकि उन शवों का ठीक ढंग से अंतिम संस्कार किया जा सके।

पढ़ने-लिखने में दिलचस्पी रखने वाले निसार उर्दू अखबारों में अक्सर लिखते भी रहते हैं। इसी दिलचस्पी के कारण लोगों के सहयोग से उन्होंने 1972 में पूरबसराय में नेशनल उर्दू गर्ल्स कॉलेज की स्थापना की।

रिपोर्ट: मनोज पाठक (आईएएनएस)


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

मुंगेर के निसार हैं 'लावारिस शवों के मसीहा'

मुंगेर के निसार हैं 'लावारिस शवों के मसीहा'
जहां धर्म और मजहब के नाम पर हिंदू और मुसलमानों के बीच तनाव की खबरें सुर्खियों में आती ...

शवों के साथ एकांत का शौक रखने वाला यह तानाशाह

शवों के साथ एकांत का शौक रखने वाला यह तानाशाह
चार अगस्त, 1972, को बीबीसी के दिन के बुलेटिन में अचानक समाचार सुनाई दिया कि युगांडा के ...

तो क्या खुल गया स्टोनहेंज का राज?

तो क्या खुल गया स्टोनहेंज का राज?
शायद आपने फिल्मी गानों में इन रहस्यमयी पत्थरों को देखा हो। इंग्लैंड में प्राचीन पत्थरों ...

कैंसर ने इरफान खान को बदल डाला

कैंसर ने इरफान खान को बदल डाला
अपने एक्टिंग से बॉलीवुड और हॉलीवुड को हिलाने वाले इरफान खान ने कैंसर की खबर के बाद पहला ...

दिल्ली का जीबी रोड: जिस सड़क का अंत नहीं

दिल्ली का जीबी रोड: जिस सड़क का अंत नहीं
दिल्ली की एक सड़क है, जिसका नाम सुनते ही लोगों की भौंहें तन जाती हैं और वे दबी जुबान में ...

स्वतंत्रता दिवस पर तिरंगे की रोशनी में नहाया मुंबई का ...

स्वतंत्रता दिवस पर तिरंगे की रोशनी में नहाया मुंबई का सीएसटी स्टे‍शन
मुंबई। बुधवार 15 अगस्त को पूर देश आजादी की 71वीं वर्षगांठ मनाने जा रहा है। आजादी की पूर्व ...

मानसून अपडेट : बारिश का कहर जारी, दिल्ली सहित 16 राज्यों ...

मानसून अपडेट : बारिश का कहर जारी, दिल्ली सहित 16 राज्यों में भारी बारिश का 'अलर्ट'
नई दिल्ली। मौसम विभाग ने उत्तर पश्चिम मानसून की उत्तरी क्षेत्र में सक्रियता को देखते हुए ...

वियना दुनिया का सबसे रहने लायक शहर, दिल्ली 112वें, मुंबई ...

वियना दुनिया का सबसे रहने लायक शहर, दिल्ली 112वें, मुंबई 117वें पायदान पर
लंदन। दुनिया के रहने लायक शहरों की सूची में भारत समेत दक्षिणी एशियाई देशों का प्रदर्शन ...