क्या होता है इंटरपोल के नोटिसों का मतलब?

पुनः संशोधित मंगलवार, 3 जुलाई 2018 (11:10 IST)
192 सदस्य देशों वाला इंटरनेशनल पुलिस संगठन, कई तरह के जारी करता है। ये नोटिस अलग-अलग स्थितियों में, अलग कारणों के चलते जारी किए जाते हैं। जानिए इन नोटिसों का क्या मतलब है।

रेड नोटिस
ये नोटिस आरोपी व्यक्ति को गिरफ्तार करने के लिए जारी किया जाता है। लेकिन सिर्फ रेड कॉर्नर नोटिस जारी होने से वह व्यक्ति दोषी नहीं हो सकता, उसे अदालत से भी दोषी ठहराया जाना चाहिए। लेकिन इंटरपोल किसी भी सदस्य देश पर आरोपी को गिरफ्तार करने का दबाव नहीं बना सकती।


येलो नोटिस
यह नोटिस अकसर गुमशुदा लोगों के लिए जारी किया जाता है। इसमें खासकर बच्चे या ऐसे लोग जो अपनी पहचान स्वयं नहीं बता सकते। इस नोटिस में शारीरिक बनावट, रंग-रूप, बॉडी मार्क आदि का खास तौर पर विवरण दिया जाता है।

ब्लैक नोटिस
यह नोटिस अज्ञात लोगों की जानकारी जुटाने के लिए इंटरपोल की ओर से जारी किया जाता है। हर साल इंटरपोल तकरीबन 150 ऐसे नोटिस जारी करता है।


ग्रीन नोटिस
यह नोटिस एक तरह की चेतावनी होता है। यह उनके खिलाफ जारी किया जाती है जिन्होंने पहले कभी अपराध किया है। साथ ही जिन पर शक होता है कि वे उस अपराध को दोहरा सकते हैं। इसमें यौन शोषण में जुड़े अपराधी, मानव तस्कर अधिक शामिल होते हैं।

ऑरेंज नोटिस
यह नोटिस तब जारी किया जाता है जब सुरक्षा का कोई खतरा मंडराता है। नोटिस किसी कार्यक्रम या आयोजन से लेकर किसी व्यक्ति, वस्तु, जगह के संबंध में जारी किया जा सकता है।


इंटरपोल-यूनाइटेड सिक्योरिटी काउंसिल स्पेशल नोटिस
यह एक खास तरह का नोटिस होता है। इसे ऐसी किसी संस्था, व्यक्ति या समूह के खिलाफ जारी किया जा सकता है जो संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की प्रतिबंध समिति के निशाने पर होता है। इंटरपोल अब तक ऐसे 500 से भी ज्यादा नोटिस जारी कर चुका है।

पर्पल नोटिस
अपराधियों द्वारा किसी अपराध के लिए इस्तेमाल की गई मॉडस ऑपरेंडी, वस्तुएं, उपकरणों और छिपाने के तरीकों पर जानकारी मांगने या देने के लिए पर्पल नोटिस जारी किया जाता है। यह नोटिस पर्यावरण से जुड़े अपराधों से निपटने में इंटरपोल की मदद करता है।



और भी पढ़ें :

मुंगेर के निसार हैं 'लावारिस शवों के मसीहा'

मुंगेर के निसार हैं 'लावारिस शवों के मसीहा'
जहां धर्म और मजहब के नाम पर हिंदू और मुसलमानों के बीच तनाव की खबरें सुर्खियों में आती ...

शवों के साथ एकांत का शौक रखने वाला यह तानाशाह

शवों के साथ एकांत का शौक रखने वाला यह तानाशाह
चार अगस्त, 1972, को बीबीसी के दिन के बुलेटिन में अचानक समाचार सुनाई दिया कि युगांडा के ...

तो क्या खुल गया स्टोनहेंज का राज?

तो क्या खुल गया स्टोनहेंज का राज?
शायद आपने फिल्मी गानों में इन रहस्यमयी पत्थरों को देखा हो। इंग्लैंड में प्राचीन पत्थरों ...

कैंसर ने इरफान खान को बदल डाला

कैंसर ने इरफान खान को बदल डाला
अपने एक्टिंग से बॉलीवुड और हॉलीवुड को हिलाने वाले इरफान खान ने कैंसर की खबर के बाद पहला ...

दिल्ली का जीबी रोड: जिस सड़क का अंत नहीं

दिल्ली का जीबी रोड: जिस सड़क का अंत नहीं
दिल्ली की एक सड़क है, जिसका नाम सुनते ही लोगों की भौंहें तन जाती हैं और वे दबी जुबान में ...

केरल में बाढ़ : रिलायंस फाउंडेशन ने मुख्यमंत्री राहत कोष ...

केरल में बाढ़ : रिलायंस फाउंडेशन ने मुख्यमंत्री राहत कोष में दिए 21 करोड़ रुपए
मुंबई। दक्षिण भारतीय राज्य केरल सौ सालों के सबसे भीषण प्राकृतिक त्रासदी से जूझ रहा है। ...

लालजी टंडन बने बिहार के राज्यपाल, सत्यदेव मलिक होंगे जम्मू ...

लालजी टंडन बने बिहार के राज्यपाल, सत्यदेव मलिक होंगे जम्मू कश्मीर के राज्यपाल
नई दिल्ली। राष्ट्रपति भवन की तरफ से जारी पत्र के मुताबिक, जम्मू-कश्मीर में नरेंद्र नाथ ...

जसप्रीत बुमराह का नॉटिंघम टेस्ट में 'पंजा', भारत जीत से एक ...

जसप्रीत बुमराह का नॉटिंघम टेस्ट में 'पंजा', भारत जीत से एक विकेट दूर
नॉटिंघम। जसप्रीत बुमराह की शानदार गेंदबाजी (85 पर 5 विकेट) के बूते पर इंग्लैंड के खिलाफ ...