खतरनाक हो सकता है हैंड ड्रायर में हाथ सुखाना

पुनः संशोधित बुधवार, 31 अक्टूबर 2018 (12:45 IST)
पब्लिक में गए और इस्तेमाल के बाद हाथों को सुखाने के लिए को ऑन कर दिया। यह आदत भारी पड़ सकती है क्योंकि हैंड ड्रायर आपके हाथों को सुखाने के साथ-साथ कीटाणु भी फैला रहे हैं। जानिए, क्या है इसकी वजह।

आपने दफ्तरों या होटलों के टॉयलेट में हैंड ड्रायर को इस्तेमाल किया होगा। हैंड ड्रायर आपके हाथों को जल्दी से सुखा देते हैं। लेकिन शोधकर्ताओं का मानना है कि पब्लिक टॉयलेट्स में हैंड ड्रायर को इस्तेमाल करना नुकसानदेह है। वजह यह है कि लोग अपने हाथों को अच्छी तरह पानी और साबुन से धोते ही नहीं हैं।


हवा और टॉयलेट के फर्श के मुकाबले जेट-एयर हैंड ड्रायर में ज्यादा कीटाणु होते हैं। लोग अपने हाथ ठीक तरीके से नहीं धोते हैं। नतीजा यह कि जैसे ही वे अपने हाथों को हैंड ड्रायर में सुखाने के लिए डालते हैं, उनके हाथों के कीटाणु हवा में तेजी से फैलने लगते हैं। यूके की यूनिवर्सिटी ऑफ लीड्स के शोधकर्ताओं ने पता लगाया है कि पेपर टावल के मुकाबले जेट-एयर ड्रायर से 27 गुना ज्यादा कीटाणु हवा में फैलते हैं। मालूम चला है कि जिन पब्लिक टॉयलेट्स में जेट-एयर ड्रायर होता है, वहां सिर्फ पेपर टावल वाले टॉयलेट की तुलना में कीटाणुओं की मात्रा अधिक होती है।

यही नहीं, कुछ ऐसे भी टॉयलेट होते हैं जहां के हैंड ड्रायर में ही एंटीबायोटिक प्रतिरोधी कीटाणु होते हैं। ये कीटाणु दुनिया के लिए और खासकर अस्पतालों व नर्सिंग होम के लिए समस्या बन चुके हैं। शोधकर्ताओं का मानना है कि में हैंड ड्रायर पर प्रतिबंध लगाने के लिए कड़े कदम उठाने की जरूरत है। उनके मुताबिक पेपर टावल हाथ के पानी को सोख लेते हैं और कीटाणु हाथ में रह जाते हैं। इससे जीवाणु फैल नहीं सकते हैं। यहां यह भी जानना महत्वपूर्ण है कि हाथों को कैसे धोया जाता है। कीटाणुओं से बचने के लिए यह जरूरी है कि हाथों को अच्छी तरह साबुन और गर्म पानी से धोया जाए।

रिपोर्ट: लारीसा वॉरनेक/वीसी



और भी पढ़ें :