ग्लोबल मीडिया फोरम: मीडिया बहुलता पर जोर

पुनः संशोधित मंगलवार, 12 जून 2018 (11:14 IST)
में 11वें में वक्ताओं ने सूचना और मीडिया साक्षरता की जरूरत पर जोर दिया। ईयू कमिसार मारिया गाब्रिएल ने कहा कि वे के खिलाफ संघर्ष करने को प्रतिबद्ध हैं।

बॉन में ग्लोबल मीडिया फोरम के उद्घाटन के मौके पर एक के बाद एक वक्ताओं ने स्वतंत्र और बहुलतावादी मीडिया और डिजीटलीइजेशन के जमाने में मीडिया की बढ़ती भूमिका का समर्थन किया। इस बार का अंतरराष्ट्रीय मीडिया सम्मेलन 'वैश्विक असमानता' के विषय पर हो रहा है। विदेश राज्य मंत्री मिशेले मुंटेफेरिंग ने कहा कि ऑनलाइन समाचारों के जमाने में लोगों को सूचना को समझने के लिए विश्वसनीय पत्रकारों की जरूरत है। मुंटेफेरिंग ने कहा, "हमें मीडिया की कंट्रोल फंक्शन में जरूरत है, लोकतंत्र के चौथे पिलर के रूप में।"

ग्लोबल मीडिया फोरम में मीडिया, सिविल सोसायटी, सरकार, कारोबार और एकेडेमिक्स के प्रतिनिधि भाग लेते हैं। इस साल 120 देशों के करीब 2,300 प्रतिनिधि फोरम में भाग ले रहे हैं। डॉयचे वेले के महानिदेशक पेटर लिम्बुर्ग ने मेहमानों का स्वागत करते हुए कहा, "ये दोस्तों के फिर से मिलने जैसा है। मुझे खुशी है कि आप सब यहां हैं।" जर्मन प्रदेश नॉर्थराइन वेस्टफेलिया के मुख्यमंत्री आर्मिन लाशेट ने कहा कि असमानका का मुद्दा इस समय बहुत सामयिक है जबकि दुनिया भर के नेता डिजीटल क्रांति के मद्देनजर समरसता बनाए रखने की कोशिश में लगे हैं।

ईयू की कमिसार मारिया गाब्रिएल ने अपने संबोधन में डिजीटाइजेशन के फायदों और नुकसान की चर्चा की। उन्होंने कहा, "डिजीटल बदलाव सूचना को इकट्ठा करने, तैयार करने और प्रसारित करने में गहरे परिवर्तन लेकर आया है।" उन्होंने कहा कि इंटरनेट पर समाचार की मात्रा में अपार वृद्धि उसकी क्वालिटी में वृद्धि लेकर नहीं आया है। लेकिन साथ ही उन्होंने इंवेस्टिगेटिव पत्रकारों की तादाद में वृद्धि को डिजीटाइजेशन का नतीजा बताया।

जर्मनी के सार्वजनिक चैनल डब्ल्यूडीआर के महानिदेशक टॉम बूरो ने कहा कि साझा समाचार मुहैया कराने के मामले में अभी भी सार्वजनिक प्रसारण केंद्र महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। उन्होंने कहा कि ये संस्थान ऐसी सूचा उपलब्ध करा रहे हैं जिसकी सूचित लोगों को जटिल दुनिया को समझने और उस पर चर्चा करने के लिए जरूरत है। आने वाले तीन दिनों में ग्लोबल मीडिया फोरम के भागीदार सूचना विषमताओं को दूर करने में सार्वजनिक प्रसारकों और दूसरे मीडिया की भूमिका पर चर्चा करेंगे।

रिपोर्ट कार्ला ब्लाइकर



और भी पढ़ें :