डेनमार्क में बुरके पर बैन लागू हुआ

पुनः संशोधित बुधवार, 1 अगस्त 2018 (18:15 IST)
में पहली अगस्त से सार्वजनिक स्थलों पर चेहरे को ढककर रखने पर रोक है। इस तरह या बुरके पर लग गया है। के कई दूसरे देशों में ये प्रतिबंध लागू है।

चेहरा ढकने पर प्रतिबंध आम तौर पर उन पोशाकों से संबंधित होते हैं जिनकी मदद से चेहरे को पूरी तरह या आंशिक तौर पर ढका जाता है। इसमें और खास तरह के हेलमेट भी शामिल हैं। लेकिन मुख्य रूप से ये कानून नकाब और बुरका जैसे चेहरे को ढकने वाले धार्मिक पोशाकों पर लक्षित हैं। इसलिए इस कानून को अक्सर बुरका प्रतिबंध कानून भी कहा जाता है। इन देशों में चेहरा ढकने पर रोक है।

फ्रांस
फ्रांस यूरोप का पहला देश था जिसने खुले में बुरका और नकाब पहनने पर रोक लगाई। यह रोक अप्रैल 2011 से लागू है। भेदभाव के आरोपों से बचने के लिए कानून के टेक्स्ट में धार्मिक पोशाकों का जिक्र नहीं हैं। उसमें कहा गया है, "कोई भी सार्वजनिक स्थल पर ऐसी पोशाक नहीं पहन सकता, जो चेहरे को ढकने के काम आए।" इसी तरह स्कूलों में 2004 से ही स्कार्फ सहित हर प्रकार की धार्मिक चीजें पहनने पर प्रतिबंध है। फ्रांस में चेहरा ढकने पर लगे प्रतिबंध से सिर्फ 2000 महिलाएं प्रभावित हैं।

बेल्जियम
जुलाई 2011 से बेल्जियम में भी सार्वजनिक रूप से चेहरे को ढकने पर प्रतिबंध है। इस नियम को नहीं मानने वाले को जुर्माना या सात दिन की कैद की सजा हो सकती है। फ्रांस की ही तरह इस प्रतिबंध से बहुत कम लोग प्रभावित हैं। बेल्जियम में रहने वाले 10 लाख मुसलमानों में सिर्फ 300 महिलाएं नकाब या बुरका पहनती हैं।


नीदरलैंड्स
नीदरलैंड्स में संसद ने चेहरा ढकने पर 2016 में रोक लगाई। तब से नकाब या बुरके पर पूरे देश में रोक नहीं है बल्कि ये रोक सार्वजनिक इमारतों, सार्वजनिक परिवहन तथा स्कूलों और अस्पतालों में लागू है। इस नियम को नहीं मानने वालों को 400 यूरो तक की सजा हो सकती है। फ्रांस और बेल्जियम की तरह यहां भी सरकार का अनुमान है कि सिर्फ 100 बुर्का पहनने वाली महिलाएं हैं।

बुल्गारिया
नीदरलैंड्स की तरह बुल्गारिया ने भी 2016 में चेहरा ढकने पर प्रतिबंध लगा दिया। यहां भी नियम का पालन न करने की सजा है। इसके लिए 750 यूरो तक का जुर्माना किया जा सकता है। खेल, नौकरी और इबादतगाह में ये लागू नहीं होता।


ऑस्ट्रिया
ऑस्ट्रिया ने सार्वजनिक जगहों पर चेहरा ढकने को अक्टूबर 2017 से रोक रखा है। कानून के मुताबिक ठुड्डी से लेकर सिर के बालों तक चेहरा दिखना चाहिए। ऐसा नहीं होने पर 150 यूरो का जुर्माना लग सकता है।

डेनमार्क
बुरका पर प्रतिबंध लगाने वाला सबसे नया यूरोपीय देश डेनमार्क है, जहां 1 अगस्त से ये कानून लागू हुआ है। डेनमार्क की संसद ने मई के अंत में 30 के मुकाबले 75 वोटों से चेहरे को ढकने पर प्रतिबंध के कानून को पास किया था। पहली बार इस नियम का हनन करने पर 135 यूरो का जुर्माना है जो अपराध दोहराए जाने पर दसगुना हो सकता है।


इटली
इटली में बुरके पर प्रतिबंध की कोई बहस नहीं हो रही है क्योंकि वहां 1970 के दशक से ही एक कानून लागू है हर ऐसी पोशाक पहनने पर रोक लगाता है जो शिनाख्त में बाधा डाले।

अन्य देश
जर्मनी, नॉर्वे और स्विट्जरलैंड सहित कई अन्य यूरोपीय देशों में बुरका पर प्रतिबंध लगाने पर बहस हो रही है। स्पेन में स्थानीय स्तर पर इसे कैटेलोनिया के एक हिस्से में लागू करने की कोशिश हुई लेकिन अदालत ने इसे रोक दिया।

रिपोर्ट: मार्को मुलर/एमजे


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :