नाबालिग लड़कियों से शादी करने भारत आये अरब शेख गिरफ्तार

पुनः संशोधित शुक्रवार, 22 सितम्बर 2017 (12:03 IST)
पुलिस ने शहर के एक ऐसे गिरोह का भंडाफोड़ किया है जो मध्यपूर्व और खाड़ी देशों के पुरूषों से लड़कियों का शादी कराता था। यह गिरोह देश के बाहर लड़कियों को भेजने की व्यवस्था भी करता था।
स्थानीय मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, पुलिस ने एक कार्रवाई के दौरान अरब देशों के आठ शेखों को गिरफ्तार किया है। इनमें से पांच से तो तीन से हैं। इनमें से एक शेख की उम्र करीब 80 साल है। पुलिस कार्रवाई में तीन काजी भी गिरफ्तार किए गए हैं। एक स्थानीय गिरोह पैसे लेकर नाबालिग लड़कियों की शादी शेखों से कराता था। साथ ही यह रैकेट लड़कियों को देश से बाहर भेजने के लिए जरूरी नकली कागजात का इंतजाम भी करता था।
वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ताजुद्दीन अहमद ने बताया, "इस तरह की शादियां सिर्फ अमीर और रईस लोग ही करने नहीं आते बल्कि यहां हर तबके के लोग आते हैं। दलालों ने ऑटोवाला, एम्बैसेडर वाला और इनोवावाला करके तीन कैटेगरी बना ली हैं। इनमें से जो तीसरी कैटेगरी है वह बड़े बड़े होटलों में ठहरने वाली रईस कैटेगरी है।"

पुलिस ने बताया, "पकड़े गए लोगों में एक बुजुर्ग व्यक्ति भी है जो अपने बेटे और दोस्त के साथ शादी करने आया था। उसके पास शादी का सर्टिफिकेट भी था, उसे बस ऐसी नौकरानी चाहिए थी जिसे वह कभी अपने शौक के लिए भी इस्तेमाल कर सके।"
पुलिस ने बताया कि तय दामों के साथ इन लड़कियों कि अरब शेखों के सामने परेड होती और इस परेड के दौरान अरब अपनी जरूरत और जेब मुताबिक किसी लड़की को चुनते और इनसे शादी करते।

हाल ही में एक निजी समाचार चैनल एनडीटीवी ने अपनी रिपोर्ट में दिखाया था कि कैसे हैदराबाद में 16 साल की एक लड़की की शादी ओमान के एक 61 वर्षीय शेख से हो जाती है। इस बच्ची की मदद का दिलासा स्वयं केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने दिया था। मामले की जांच के दौरान ही हैदराबाद पुलिस को इस रैकेट का पता चला जिसके बाद पुलिस ने उन पर कार्रवाई की।
ऐसे रैकेटों में फंसी लड़कियों के परिवार वाले इसके लिए दलालों को जिम्मेदार मानते हैं। परिवारजनों का कहना है कि ये दलाल नाबालिग लड़कियों को भविष्य के सुनहरे सपने दिखाकर शहर ले जाते हैं और ऐसे धंधों में धकेल देते हैं।

रिपोर्ट: अपूर्वा अग्रवाल

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :