टीम इंडिया के चैम्पियन बनने के बाद भारत अंडर-19 की टीम भी एशिया कप विजेता

Last Updated: रविवार, 7 अक्टूबर 2018 (20:46 IST)
ढाका। शीर्ष क्रम के बल्लेबाजों के धमाकेदार प्रदर्शन के बाद लेफ्ट आर्म स्पिनर हर्ष त्यागी (38 रन पर 6 विकेट) की घातक गेंदबाजी की बदौलत ने श्रीलंका को रविवार को 144 रनों के बड़े अंतर से रौंदकर अंडर-19 एशिया कप क्रिकेट टूर्नामेंट का खिताब जीत लिया।

भारत अंडर-19 टीम ने अपनी सीनियर टीम की कामयाबी को दोहरा दिया जिसने हाल में बांग्लादेश को 3 विकेट से हराकर एशिया कप जीता था। भारत ने फाइनल में 50 ओवरों में 3 विकेट पर 304 रनों का मजबूत स्कोर बनाने के बाद श्रीलंका को 38.4 ओवर में 160 रन पर ढेर कर दिया। भारत ने 6ठी बार अंडर-19 एशिया कप जीता है। भारत ने इससे पहले 1989, 2003, 2012, 2013-14 और 2016 में यह खिताब जीता था। भारत 2012 के टूर्नामेंट में संयुक्त विजेता रहा था।
फाइनल में भारत के शीर्ष क्रम के पांचों बल्लेबाजों ने जमकर रन बटोरे। ने 85, अनुज रावत ने 57, देवदत्त पडिकल ने 31, कप्तान प्रभसिमरन सिंह ने नाबाद 65 और आयुष बदौनी ने नाबाद 52 रन बनाए। जायसवाल और रावत ने पहले विकेट के लिए 25.1 ओवर में 121 रनों की साझेदारी की। जायसवाल ने फिर पडिकल के साथ दूसरे विकेट के लिए 59 रन जोड़े। प्रभसिमरन और बदौनी ने चौथे विकेट के लिए 110 रनों की अविजित साझेदारी कर भारत को 300 के पार पहुंचा दिया।
जायसवाल ने 113 गेंदों पर 85 रनों में 8 चौके और 1 छक्का, रावत ने 79 गेंदों पर 57 रन में 4 चौके और 3 छक्के, पडिकल ने 43 गेंदों पर 31 रन में 1 चौका और 1 छक्का, कप्तान प्रभसिमरन ने मात्र 37 गेंदों पर नाबाद 65 रनों में 3 चौके और 4 छक्के तथा बदौनी ने सिर्फ 28 गेंदों पर नाबाद 52 रनों में 2 चौके और 5 छक्के लगाए। भारतीय पारी में 18 चौके और 14 छक्के लगे।

विशाल लक्ष्य का पीछा करते हुए श्रीलंका की टीम बराबर दबाव में रही। रही-सही कसर हर्ष त्यागी ने 10 ओवरों में 38 रन पर 6 विकेट लेकर पूरी कर दी। त्यागी ने श्रीलंका के शीर्ष 5 बल्लेबाजों में से 4 को पैवेलियन की राह दिखाकर श्रीलंका की कमर ही तोड़ दी। त्यागी ने निचले क्रम में आखिरी 2 बल्लेबाज निकालकर श्रीलंका की पारी समेट दी। सिद्धार्थ देसाई ने 37 रनों पर 2 विकेट और मोहित जांगड़ा ने 18 रनों पर 1 विकेट लिया। श्रीलंका का 1 बल्लेबाज रनआउट हुआ।
श्रीलंका एक समय 1 विकेट पर 66 रन बनाकर संघर्ष करने की स्थिति में था लेकिन इसके बाद उसके बल्लेबाजों ने भारतीय गेंदबाजों के सामने घुटने टेक दिए। ओपनर निशान मदुष्का ने 67 गेंदों में सर्वाधिक 49 रन बनाए। नावोद परनाविताना ने 61 गेंदों में 48 रन और पासिंदु सूरियाबंडारा ने 32 गेंदों में 31 रन बनाए।


और भी पढ़ें :