अभिभावकों के त्याग से ईशान किशन बना क्रिकेटर

नई दिल्ली| Last Updated: बुधवार, 23 दिसंबर 2015 (12:35 IST)
नई दिल्ली। अगले वर्ष जनवरी के अंत में में होने वाले के लिए भारतीय अंडर-19 टीम की कमान संभालने वाले ने अपनी इस सफलता का श्रेय अपने अभिभावकों की कड़ी मेहनत और त्याग को दिया है।
अंडर-19 विश्व कप के लिए ईशान को टीम की कमान सौंपी गई है जबकि ऋषभ पंत को उनका नायब बनाया गया है। बिहार में जन्मे ईशान से पहले सबा करीम, अमिकर दयाल, आशीष कुमार, राजीव कुमार राजा जैसे क्रिकेटरों ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपने राज्य का गौरव बढ़ाया है।> > अपनी इस उपलब्धि पर खुशी से फूले नहीं समा रहे ईशान ने अपनी इस सफलता का श्रेय अपने परिजनों खासकर पिता और भाई की कड़ी मेहनत और त्याग को दिया है।
ईशान ने महज 7 साल की उम्र में जब बल्ले को थामा तो उनको पिता का समर्थन मिला जबकि बड़े भाई ने उनके लिए असमय ही अपने करियर को विराम दे दिया। ईशान ने के बाहरी परिसर में बीसीए अकादमी में दाखिला लिया, जहां बंगाल के उत्तम मजूमदार ने उन्हें क्रिकेट के गुर सिखाए।

ईशान बताते हैं कि उनके बड़े भाई राज किशन भी राज्य स्तरीय क्रिकेट खेलते थे लेकिन उनके करियर को आगे बढ़ाने के लिए उन्होंने क्रिकेट से दूर होने का फैसला लिया और बुधवार को जब उन्हें यह नई जिम्मेदारी दी गई है, तो वे खुशी के मारे फूले नहीं समा रहे हैं। (वार्ता)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :