Widgets Magazine Widgets Magazine
Widgets Magazine
Widgets Magazine

पुजारा के दोहरे शतक से भारत ने शिकंजा कसा

रांची| Last Updated: रविवार, 19 मार्च 2017 (18:00 IST)
रांची। भरोसेमंद चेतेश्वर पुजारा (202) के धैर्य के साथ बनाए गए दोहरे शतक और उनकी विकेटकीपर रिद्धिमान साहा (117) के साथ सातवें विकेट के लिए 199 रन की बेशकीमती साझेदारी की बदौलत भारत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपनी पहली पारी चौथे दिन रविवार को नौ विकेट पर 603 रन पर घोषित कर तीसरे टेस्ट पर अपना शिकंजा कस लिया।

 भारत के पास अब पहली पारी में 152 रन की भारी भरकम बढ़त हो गई है। आस्ट्रेलिया ने अपनी पहली पारी में 451 रन बनाए थे। पुजारा ने 525 गेंदों का सामना किया और 202 रन में 21 चौके लगाए। साहा ने 233 गेंदों का सामना करते हुए 117 रन में आठ चौके और एक छक्का लगाया। ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा ने तेज हाथ दिखाते हुए मात्र 55 गेंदों में पांच चौकों और दो छक्कों की मदद से नाबाद 54 रन ठोके। उमेश यादव ने 16 रन बनाए।
 
जडेजा ने इसके बाद आस्ट्रेलिया की दूसरी पारी में दो विकेट झटककर कंगारूओं को दबाव में ला दिया। जडेजा ने ओपनर डेविड वार्नर(14) को बोल्ड किया और फिर नाइटवाचमैन नाथन लियोन(दो) को भी बोल्ड कर दिया। जडेजा ने वार्नर को मैच में दूसरी बार अपना शिकार बनाया। स्टम्प्स के समय आस्ट्रेलियाने दो विकेट खोकर 23 रन बना लिए और उसे अभी पारी की हार से बचने के लिए 129 रन और बनाने हैं। मैट रेनशॉ सात रन बनाकर क्रीज पर हैं। 
 
कप्तान विराट कोहली ने 210 ओवर के खेल के बाद भारत की पहली पारी घोषित कर दी। तब तक भारत 600 का स्कोर पार कर चुका था। भारत ने सुबह छह विकेट पर 360 रन से आगे खेलना शुरू किया था। पुजारा 130 और साहा 18 रन पर नाबाद थे। 
 
29 वर्षीय पुजारा ने अपने करियर का तीसरा और आस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरा दोहरा शतक बनाया। पुजारा का यह 11वां टेस्ट शतक था। विकेटकीपर बल्लेबाज साहा ने अपना तीसरा शतक बनाया और अपने 1000 टेस्ट रन से अब वह मात्र 18 रन दूर रह गए हैं।
 
पुजारा अब सचिन तेंदुलकर और वीवीएस लक्ष्मण जैसे दिग्गज बल्लेबाजों की श्रेणी में शामिल हो गए हैं जिन्होंने ऑस्ट्रेलिया खिलाफ 11 टेस्टों में 1000 रन भी पूरे कर लिए हैं। पुजारा ने इंग्लैंड के खिलाफ भी 1000 रन बनाए हैं। राहुल द्रविड़ के बाद टीम इंडिया में श्रीमान भरोसेमंद का खिताब पाने वाले पुजारा ने इसी के साथ टेस्ट मैच पारी में सर्वाधिक गेंदें खेलने का किसी भारतीय का नया रिकॉर्ड भी कायम कर दिया है। 
 
आखिरी बार वर्ष 2004 में पूर्व बल्लेबाज राहुल द्रविड़ ने रावलपिंडी में 270 रन की पारी के लिए 495 गेंदों की मदद ली थी जबकि पुजारा ने अपने 202 रन के लिए 525 गेंदें खेलीं। पुजारा की यह पारी किसी भारतीय बल्लेबाज की गेंदों के हिसाब से और उनकी व्यक्तिगत तौर पर भी सबसे लंबी पारी है।
 
सुबह भारत ने कल के छ: विकेट पर 360 रन से आगे खेलते हुए लंच तक अपना स्कोर 435 पहुंचा दिया। इस दौरान पुजारा ने अपने 150 रन 391 गेंदों में और साहा ने 50 रन 100 गेंदों में पूरे किए। दोनों बल्लेबाजों को लाजवाब पारियों के साथ रिव्यू का भी फायदा मिला।
 
ऑस्ट्रेलिया के लिए पांच वर्ष बाद अपना दूसरा टेस्ट खेल रहे तेज गेंदबाज पैट कमिंस ने साहा के जरिए सुबह अपना पांचवां विकेट हासिल कर ही लिया था जब भारतीय बल्लेबाज को पगबाधा आउट दिया गया। लेकिन साहा ने तुरंत इस निर्णय पर रिव्यू मांग लिया और रिप्ले से साफ हो गया कि गेंद स्टम्प्स को नहीं छू रही थी और साहा बाल बाल बच गए।
 
साहा ने इसके बाद आफ स्पिनर नाथन लियोन की गेंद पर मिड विकेट पर छक्का मार दिया तथा स्टीव ओ कीफे की गेंद पर एक रन लेकर अपने 50 रन पूरे किए। दूसरे छोर पर पुजारा ने लियोन की गेंद पर एक रन लेकर अपने 150 रन पूरे किए। दाएं हाथ के बल्लेबाज पुजारा को भी 157 के निजी स्कोर पर जीवनदान मिला जब लियोन की गेंद पर उन्हें पगबाधा दिया गया। इस निर्णय के लिए भी पुजारा ने रिव्यू लिया और अंपायर को अपना निर्णय बदलना पड़ा।
 
लंच के बाद ऑस्ट्रेलिया ने पहले ही ओवर में तीसरी नई गेंद दे दी। लेकिन इसका दोनों बल्लेबाजों पर कोई असर नहीं पड़ा। दोनों ने चायकाल तक टीम का स्कोर 503 रन पहुंचा दिया। हालांकि दूसरे सत्र में दोनों बल्लेबाजों ने धीमी बल्लेबाजी की और अपना विकेट बचाए रखा। पारी के 180वें ओवर में आस्ट्रेलिया का साहा के खिलाफ रिव्यू बेकार भी गया।
 
चायकाल के समय पुजारा 190 और साहा 99 रन पर नाबाद थे। साहा ने चायकाल के बाद अपना शतक 214 गेंदों में पूरा किया जबकि पुजारा का दोहरा शतक 521 गेंदों में पूरा हुआ। दोहरा शतक पूरा करने के बाद पुजारा ने लियोन की गेंद पर ग्लेन मैक्सवेल को कैच थमा दिया। पुजारा ने एक ढीला शॉट खेला और अपना विकेट गंवा बैठे। लेकिन उन्होंने भारत के लिए एक महान पारी खेल डाली। लियोन को बेंगलुरू टेस्ट के पहले दिन के बाद अब जाकर एक विकेट हासिल हुआ।
 
यह साझेदारी टूटने के बाद साहा का धैर्य भी चूक गया और उन्होंने ओ कीफे की गेंद पर मैक्सवेल को कैच दे दिया। साहा की भी यह पारी पुजारा जितनी ही महत्वपूर्ण रही। जडेजा ने मैदान पर उतरने के साथ ताबड़तोड़ अंदाज में रन बटोरे और अपना छठा अर्धशतक पूरा किया। जडेजा भी अब 1000 टेस्ट रन के करीब पहुंच चुके हैं और उनके 988 रन हो गए हैं। उमेश यादव 16 रन बनाने के बाद ओ कीफे का शिकार बने और भारत के 600 रन पूरे होने के साथ ही विराट ने पारी घोषित कर दी।
 
ऑस्ट्रेलिया के चारों प्रमुख गेंदबाजों ने 100 रन अधिक रन लुटाए। पैट कमिंस ने 39 ओवर में 106 रन पर चार विकेट, ओ कीफे ने 77 ओवर की गेंदबाजी में 199 रन पर तीन विकेट, जोश हेजलवुड ने 44 ओवर में 103 रन पर एक विकेट और लियोन ने 46 ओवर में 163 रन पर एक विकेट लिया। (वार्ता)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine
Widgets Magazine
Widgets Magazine Widgets Magazine
Widgets Magazine