Widgets Magazine

बड़ी खबर! आइडिया और वोडाफोन का विलय, बनेगी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी

Last Updated: सोमवार, 20 मार्च 2017 (13:02 IST)
नई दिल्ली। वोडाफोन इंडिया और के की घोषणा कर दी गई है। इस घोषणा के साथ ही देश की सबसे बड़ी कंपनी के रूप में इनका उभार होगा। वोडाफोन बोर्ड ने सोमवार को विलय के प्रस्ताव पर मुहर लगा दी। वोडाफोन पीएलसी ने आइडिया सेल्युलर के साथ विलय का ऐलान कर दिया। आइडिया सेलुलर बोर्ड ने भी वोडाफोन इंडिया लिमिटेड और इसके पूर्ण स्वामित्व वाली वोडाफोन मोबाइल सर्विसेज के कंपनी के साथ विलय को मंजूरी दी। 
विलय के बाद बनने वाली कंपनी के चेयरमैन कुमार मंगलम बिड़ला होंगे जबकि वोडाफोन इसमें सीएफओ नियुक्त करेगी।

आइडिया सेल्यूलर ने आज वोडाफोन इंडिया और वोडाफोन मोबाइल सर्विसिज के साथ मिलकर देश की सबसे बड़ी दूरसंचार सेवा कंपनी बनाने को मंजूरी दे दी। दोनों के मिलने से जो नई कंपनी बनेगी उसके ग्राहकों की संख्या 39.40 करोड़ तक होगी।
 
आइडिया सेल्यूलर निदेशक मंडल की सोमवार को यहां हुई बैठक में इस बारे में निर्णय लिया गया। आइडिया ने नियामकीय जानकारी में कहा है, 'कंपनी ने वोडफोन इंडिया लिमिटेड (वीआईएल) और इसकी पूर्ण स्वामित्व वाली अनुषंगी वोडाफोन मोबाइल सर्विसिज लिमिटेड (वीएमएसएल) के साथ एकीकरण को मंजूरी दे दी है।' प्रस्तावित विलय संबंधित प्राधिकरणों से जरूरी मंजूरी मिलने के बाद आगे बढ़ेगा। इसके लिए सेबी, दूरसंचार विभाग और रिजर्व बैंक से मंजूरी लेनी होगी।
 
नियामक को भेजी गई जानकारी के मुताबिक, 'कंपनियों के एकीकरण के बाद वाआईएल के इंडस टावर्स लिमिटेड में किए गए निवेश को छोड़कर वीआईएल और वीएमएसएल का पूरा कारोबार, इसकी अंतरराष्ट्रीय नेटवर्क संपत्ति और सूचना प्रौद्योगिकी प्लेटफार्म सभी नई कंपनी के तहत आ जाएगी।'
 
वोडाफोन इंडिया का कुल कारोबार 5,025 करोड़ रुपए और वीएमएसएल का 40,378 करोड़ रुपए है। आइडिया सेल्यूलर का कारोबार 36,000 करोड़ रुपए है। जबकि वीआईएल की नेटवर्थ 12,855 करोड़ रुपए, वीएमएसएल की 3,737 करोड़ रुपए और आइडिया सेल्यूलर की 24,296 करोड़ रुपए है। 
 
ट्राई के आंकड़ों के अनुसार दिसंबर 2016 अंत में दूरसंचार बाजार में वोडाफोन की बाजार हिस्सेदारी 20.46 करोड़ मोबाइल ग्राहकों के साथ 18.16 प्रतिशत थी जबकि आइडिया की 19.05 करोड़ ग्राहकों के साथ 16.9 प्रतिशत हिस्सेदारी है। इस समय 26.58 करोड़ ग्राहक संख्या के साथ एयरटेल की मोबाइल दूरसंचार बाजार में 23.58 प्रतिशत की सबसे ज्यादा हिस्सेदारी है।
 
आइडिया और वोडाफोन के संयुक्त वक्तव्य में कहा गया है कि विलय के बाद बनने वाली एकीकृत कंपनी पर शेयरधारक समझौते के मुताबिक वोडाफोन और आदित्य बिड़ला समूह का संयुक्त नियंत्रण होगा। इसमें कहा गया है कि एकीकृत कंपनी में विलय प्रक्रिया पूरी होने के साथ आदित्य बिड़ला समूह को 3,900 करोड़ रुपए में 4.9 प्रतिशत हिस्सेदारी के हस्तांतरण के बाद वोडाफोन की 45.1 प्रतिशत हिस्सेदारी होगी। आइडिया की एकीकृत कंपनी में 26 प्रतिशत हिस्सेदारी होगी जबकि शेष हिस्सेदारी सार्वजनिक शेयरधारकों के पास होगी।
 
कंपनियों के संयुक्त बयान में कहा गया है कि आदित्य बिड़ला समूह को आने वाले समय में शेयरधारिता को बराबर करने के लिये वोडाफोन से और शेयरों के अधिग्रहणों का अधिकार होगा। यह काम सहमति प्राप्त प्रणाली के तहत होगा। (भाषा)

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine
Widgets Magazine