त्योहारी मौसम में मकानों की बिक्री बढ़ने की संभावना

नई दिल्ली| पुनः संशोधित बुधवार, 2 अगस्त 2017 (21:35 IST)
नई दिल्ली। के नीतिगत ब्याज दरों में 0.25 प्रतिशत की कटौती करने के आज के निर्णय से आवास ऋण सस्ते होंगे और इससे आने वाले में आवासीय संपत्तियों की बिक्री बढ़ने की संभावना है।
भारतीय रिजर्व बैंक के नीतिगत ब्याज दरों में 0.25 प्रतिशत की कटौती करने के आज के निर्णय से आवास ऋण सस्ते होंगे और इससे आने वाले त्यौहारी मौसम में आवासीय संपत्तियों की बिक्री बढ़ने की संभावना है।
रीयल्टी क्षेत्र के डेवलपरों और परामर्शदाताओं के अनुसार उन्हें बैंकों से इस में कटौती को आगे बढ़ाए जाने की उम्मीद है जिससे आवास ऋण सस्ते होंगे।

डीएलएफ के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और नारेडको के चेयरमैन राजीव तलवार ने कहा कि रेपो दर में 0.25% की कटौती इससे ज्यादा सटीक समय पर नहीं आ सकती थी। तलवार ने कहा कि ‘भारतीय अर्थव्यवस्था बदलाव के दौर में है। प्रक्रियागत बाधाएं आसान हो रही हैं, परियोजनाओं को तेजी से मंजूरी मिलने लगी है और अर्थव्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण रीयल एस्टेट जैसे उत्पादक क्षेत्रों के लिए ऋण प्रवाह फिर बढ़ा है जो वृद्धि में गति लाएगा।’ उन्होंने कहा कि आने वाले महीनों में दरों में और कटौती की संभावना से इंकार नहीं किया जाना चाहिए।
क्रेडाई के अध्यक्ष जैक्से शाह ने कहा कि त्योहारी मौसम से ठीक पहले यह एक स्वागत योग्य कदम है और यह बिक्री को बढ़ाने में मददगार होगा। बैंकों को इसका लाभ ग्राहकों को देना चाहिए और सरकार को बैंकों को ऐसा करने के लिए दबाव बनाना चाहिए। उल्लेखनीय है कि रीयल एस्टेट क्षेत्र में कई सालों से मंदी छाई हुई है और इसके बाद नोटबंदी ने भी बिक्री को प्रभावित किया। (भाषा)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :