नोटबंदी : अभी भी हो रही है 500 और 1000 के नोटों की गिनती

नई दिल्ली| पुनः संशोधित गुरुवार, 13 जुलाई 2017 (15:48 IST)
नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद जमा हुए 500 और 1000 के नोटों की गिनती अभी भी जारी है। के गवर्नर ने संसदीय समिति को बताया कि नोटबंदी के बाद जमा नोटों की गिनती अब तक जारी है। यह काम एक विशेष टीम कर रही है। रविवार के अलावा कोई छुट्टी नहीं दी जा रही है।
वित्त पर संसद की स्थायी समिति की तीन घंटे से अधिक चली बैठक में रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल से कई सवाल पूछे गए, लेकिन कई सदस्यों ने कहा कि केंद्रीय बैंक प्रमुख ने इस बारे में कोई स्पष्ट संख्या नहीं बताई कि नोटबंदी के बाद कितनी मुद्रा बैंकों में आई।

सपा के नरेश अग्रवाल और तृकां के सांसद सौगतो रॉय ने पटेल से पूछा कि अब तक कितनी करेंसी सिस्टम में आ चुकी है। रिजर्व बैंक के गवर्नर ने कहा कि अभी 15.4 लाख करोड़ रुपए सर्कुलेशन में है। जब नोटबंदी हुई थी तब 17.7 लाख करोड़ नोट सर्कुलेशन में थे। समिति नोटबंदी पर अपनी रिपोर्ट मानसून सत्र में संसद में सौंपेगी।

पटेल ने कहा कि प्रतिबंधित नोट अभी तक नेपाल से आ रहे हैं। बुधवार को उनसे समिति ने देश के 12 बड़े डिफॉल्टर के नाम भी पूछे। पटेल ने गोपनीयता का हवाला देकर इन डिफॉल्टर्स के नाम बताने से इंकार कर दिया। संसदीय समिति 17 जुलाई से शुरू हो रहे मानसून सत्र में नोटबंदी पर रिपोर्ट पेश करेगी।

नोटबंदी के बाद अप्रैल 2017 में रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल के साथ डिप्टी गवर्नरों की वेतन में भारी इजाफा किया गया था। सरकार ने इनकी बेसिक सैलरी में दोगुने से ज्यादा की बढ़ोतरी की है। उर्जित पटेल का मूल वेतन बढ़ाकर 2.5 लाख तो डिप्टी गवर्नर का 2.25 लाख रुपए कर दिया गया है। यह बदलाव पीछे की तारीख 1 जनवरी 2016 से लागू है। इससे पहले तक आरबीआई के गवर्नर की बेसिक सैलरी 90 हजार, जबकि डिप्टी गवर्नर की 80 हजार रुपए हुआ करती थी। (एजेंसियां)

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :