निबंध | बाल दिवस | चिट्ठी-पत्री | कहानी | क्या तुम जानते हो? | हँसगुल्ले | प्रेरक व्यक्तित्व | कविता | अजब-गजब | टीचर्स डे | अकबर बीरबल के किस्से | सिंहासन बत्तीसी
मुख पृष्ठ » लाइफ स्‍टाइल » नन्ही दुनिया » कविता » फनी बाल कविता : गिलहरी (Poem: the Squirrel)
Poem: The Squirrel
FILE
poetry on squirrel

रखे हिमालय को कंधे पर,
चली सूर्य की ओर गिलहरी।
कहां खतम है आसमान का,
ढूंढ़ रही है छोर गिलहरी।

अंबर से वह देख रही है,
धरती की ओझल हरियाली।
इसी बात पर जोर-जोर से,
मचा रही है शोर गिलहरी।

श्वांस और उच्छवांस कठिन है,
धरती पर अब जीवन भारी।
यही सोचकर आज हो रही,
है उदास घनघोर गिलहरी।

कण-कण दूषित आसमान का,
मिट्टी की रग-रग जहरीली,
यही बताने आज रही है,
सबको ही झखझोर गिलहरी।

आंखों में आंसू आते हैं,
दशा देखकर भारत मां की,
कल क्या होगा सोच-सोच कर,
होती भाव-विभोर गिलहरी।
संबंधित जानकारी
Feedback Print