बाल कहानी : पानी की बचत

Water-save
 
 
-नरेन्द्र देवांगन
 
सोनम के पापा जबसे इस शहर में आए हैं, वे और उनका परिवार से परेशान हैं।
 
सबसे अधिक परेशानी तो सोनम के भाई प्रतीक को है। कहां तो प्रतीक दिन में दो-तीन बार नहाता था और घंटों शॉवर के नीचे बैठा गुनगुनाता रहता था। लेकिन अब तो जैसे एक बाल्टी पानी भी मुश्किल से मिलता है, उस पर भी मम्मी की सौ-सौ हिदायतें।
 
वह कहता, 'पापा, आप हमें कहां ले आए? हमें तो वापस ले चलिए।'
 
पापा मुस्कुराकर रह जाते। वे लोग जिस मकान में रहते थे, वहीं पड़ोस में रहने वाले भाई-बहन गौरव और अल्पना से सोनम और प्रतीक की दोस्ती हो गई थी।
 
रविवार के दिन सोनम और प्रतीक उनके घर गए। उन्होंने देखा, गौरव के पापा दाढ़ी बना रहे थे। अचानक प्रतीक का ध्यान वॉश बेसिन के नल पर गया। वह बंद था।
 
'अंकल, आपके यहां पानी नहीं आ रहा?' प्रतीक ने पूछा।
 
'आ रहा है बेटा।' कहते हुए उन्होंने वॉश बेसिन का नल खोलकर दिखाया। फिर बोले, 'पर तुम क्यों पूछ रहे हो?'
 
'कुछ नहीं अंकल, ऐसे ही।' प्रतीक बोला। लेकिन सोनम समझ गई। पर कैसे कहे कि उसके पापा तो शेविंग करते समय वॉश बेसिन का नल खुला ही रखते हैं।
 
गौरव-अल्पना के घर तो उन्हें और भी अनेक बातें पता चलीं। गौरव के पापा ने अपनी कार के अधिकांश हिस्सों को गीले कपड़े से पोंछा। कार एकदम साफ हो गई।
 
गौरव ने कहा, 'प्रतीक मैं नहाकर आता हूं।' और वह झटपट नहाकर आ गया। प्रतीक चकित था।
 
बोला, 'नहा आए?'
 
'और नहीं तो क्या। एक बाल्टी पानी से खूब मजे से नहा लिया।' गौरव ने मुस्कुराते हुए कहा।
 
'वाह, क्या बात है।' प्रतीक बुदबुदाया।
 
इधर सोनम ने भी देखा, अल्पना की मम्मी को। वे दाल-चावल, सब्जियों को अच्छी तरह से धोकर उसे घर के पेड़-पौधों व लॉन में डाल रही थीं।
 
'हमारे यहां तो ऐसा पानी नाली में बहा दिया जाता है', सोनम ने प्रतीक से कहा।
 
कुछ देर बाद दोनों भाई-बहन अपने घर लौट आए।
 
प्रतीक बोला, 'सोनम, आज तो गौरव के घर जाना फायदेमंद साबित हुआ।'
 
'बिलकुल ठीक कहते हो, प्रतीक।'
 
सोनम बोली, 'मैं भी यही सोच रही हूं। सचमुच पानी की बेहद कमी है। लेकिन फिर भी अल्पना के घर की पानी संबंधी व्यवस्था सुचारु रूप से चल रही है।'
 
'हां, हम अखबारों व पत्रिकाओं में पानी की कमी और के बारे में भी खूब पढ़ते तो रहे हैं लेकिन हमने तो कभी भी इस समस्या पर ध्यान ही नहीं दिया।' प्रतीक को अफसोस हुआ।
 
'वाकई हमें अब सावधान हो जाना चाहिए। केवल जरूरत जितना ही पानी इस्तेमाल करने की आदत हमें रोजमर्रा के जीवन में डालनी चाहिए जिससे कि पानी का उचित उपयोग हो। व्यर्थ की बरबादी नहीं।' सोनम ने समझदारी की बात कही।
 
'हां, तुम ठीक कहती हो। पानी का विकल्प पानी ही है।' प्रतीक ने भी अपनी सहमति दी। दोनों ने अपने मम्मी-पापा से भी बात की। मम्मी-पापा बच्चों के मुंह से ऐसी बातें सुनकर हैरान थे और खुश भी।
 
'बच्चो, सबसे पहले हम पानी बेकार नहीं करने का संकल्प लेंगे।' पापा ने सोनम और प्रतीक को समझाया, 'ब्रश करते वक्त नल खुला नहीं छोड़ेंगे, पानी पूरा गिलास पीएंगे व जूठा पानी नहीं छोड़ेंगे। नहाते वक्त किफायत बरतेंगे, शॉवर इस्तेमाल नहीं करेंगे, बल्कि बाल्टी से नहाएंगे और फ्लश में कम से कम साफ पानी डालेंगे।'
 
और फिर उसी दिन से ही पानी की बचत होने लगी। साथ ही घरेलू कामकाज भी सुचारु रूप से चलने लगे। मम्मी-पापा से शुरुआत की गई। आदर सहित उन्हें पानी बरबाद न हो, इसके कई टिप्स बताए गए, जैसे शेविंग के वक्त मग में पानी, कपड़े धोकर गंदे पानी से नाली की सफाई, कम पानी में सब्जी धोना आदि।
 
पानी की मोटर के लगातार चलते रहने से जो पानी टंकियों से बहता रहता था, अब बिलकुल बंद हो गया, क्योंकि बच्चे टंकी भरते ही मोटर बंद कर देते थे। धीरे-धीरे बच्चों को इस काम में मजा आने लगा। अब तो कहीं भी पानी बरबाद होता दिखता, तो वे दल-बल सहित पहुंच जाते। जिन घरों में रोज धुलाई होती थी, वहां अब पोंछा लगने लगा।
 
बदलाव धीरे-धीरे आ रहा था। फिर एक दिन मम्मी ने सोनम और प्रतीक के साथ-साथ उनके अन्य मित्रों को संग में लेकर प्यासे पक्षियों हेतु छोटे-छोटे मटके कॉलोनी के पेड़ों पर बांधे। प्यासी चिड़ियों को पानी पीते देखकर खासतौर पर छोटे-छोटे बच्चों को बहुत सुकून मिला। हर एक बच्चे की जिम्मेदारी में 3-3 मटके थे। वे उन्हें खाली होने से पहले ही भर दिया करते थे। 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ
जीवन की ढलने लगी सांझ उमर घट गई डगर कट गई जीवन की ढलने लगी सांझ।

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी ...

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी मत देना
मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊँचाई कभी मत देना गैरों को गले न लगा सकूँ इतनी रुखाई कभी मत ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक पटल, बहुत याद आएंगे अटल
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वह ना केवल एक ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते हैं सोच...
अटल बिहारी वाजपेयी ने शिक्षा, भाषा और साहित्य पर हमेशा जोर दिया। उनके अनुसार शिक्षा और ...

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता : जीवन को शत-शत आहुति में, जलना ...

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता : जीवन को शत-शत आहुति में, जलना होगा, गलना होगा
बाधाएं आती हैं आएं घिरें प्रलय की घोर घटाएं, पांवों के नीचे अंगारे, सिर पर बरसें यदि ...

श्रावण मास की खास आखिरी सवारी 20 अगस्त को, शिव, श्रावण और ...

श्रावण मास की खास आखिरी सवारी 20 अगस्त को, शिव, श्रावण और उज्जैन का त्रिवेणी संगम
श्रावण सोमवार को राजाधिराज महाकाल महाराज पूरे लाव लष्कर के साथ अपनी प्रजा का हाल जानने ...

भोलेनाथ शंकर की सुंदर भावनात्मक स्तुति : जय शिवशंकर, जय ...

भोलेनाथ शंकर की सुंदर भावनात्मक स्तुति : जय शिवशंकर, जय गंगाधर, करुणा-कर करतार हरे
जय शिवशंकर, जय गंगाधर, करुणा-कर करतार हरे, जय कैलाशी, जय अविनाशी, सुखराशि, सुख-सार ...

20 अगस्त को श्रावण का अंतिम सोमवार, अपनी राशि अनुसार कुछ इस ...

20 अगस्त को श्रावण का अंतिम सोमवार, अपनी राशि अनुसार कुछ इस तरह करें शिव को प्रसन्न
मेष राशि के जातकों को श्रावण मास के अंतिम सोमवार पर शिवजी को आंकड़े का फूल चढ़ाना चाहिए। ...

श्रावण मास में जरूरी है भगवान शिव के साथ प्रभु श्रीराम का ...

श्रावण मास में जरूरी है भगवान शिव के साथ प्रभु श्रीराम का पूजन, जानिए क्या है राज
श्रावण मास में शिव का प्रिय मंत्र 'ॐ नमः शिवाय' एवं 'श्रीराम जय राम जय जय राम' मंत्र का ...

बस सात दिन और बचे हैं सावन को खत्म होने में, कर लीजिए यह ...

बस सात दिन और बचे हैं सावन को खत्म होने में, कर लीजिए यह उपाय
26 अगस्त 2018 को रक्षाबंधन के पर्व के साथ ही सावन का पावन महीना समाप्त हो जाएगा। पूजन, ...