प्रेरक कहानी : बदमाश नेवला

एक नदी किनारे एक नेवला रेहता था। यह नेवला बहुत शरारती था। नदी के पार जा कर, दूसरे जानवरों को परेशान करने में उसे बहुत मज़ा आता था। जब किसी जानवर को चोट लग जाती तो नेवला, बड़े ही प्यार से उनके पास जाता और बोलता कि ये लो, मरहम लगा लो।
इससे आराम मिलेगा।
चोटिल जानवर उसका धन्यवाद करते और मरहल लगा लेते। लकिन जैसे ही वो मरहम लगाते, उनका दर्द बढ़ जाता और वे दर्द में चीखने लगते।
क्योंकि बदमाश नेवला अपने बनाए मरहम में नींबू, नमक और काली मिर्च डालता था। और जब दूसरे जानवर मरहम लगाने पर चिल्लाते, दौड़ते, भागते तो उसे बड़ा मज़ा आता था।
उसने एक दिन खरगोश के साथ भी ऐसा ही किया। खरगोश ने सोच लिया की इस नेवले को तो सबक सीखना ही पड़ेगा।

एक दिन खरगोश ने दो टोकरियां ली, एक छोटी और एक बड़ी। बड़ी टोकरी के निचे तारकोल लगा दी। खरगोश दोनों टोकरियां ले कर नेवले के पास गया और बोला, चलो वहां पहाड़ पर चलते है। वहां मीठे आम के पेड़ है। आम लेकर आते है। नेवले ने झट से, ज़ायदा आम लाने के लालच में बड़ी टोकरी उठा ली। पहाड़ पर जाकर दोनों ने आमों से अपनी टोकरियां भर ली। नेवले की टोकरी भारी हो गई। उनसे जैसे ही अपनी टोकरी निचे रखी। तारकोल लगा होने से उसकी टोकरी नीचे ही चिप्पक गई। उसने पूरा ज़ोर लगाया अपनी टोकरी को वापस उठाने के लिए, इससे उसके पंजे छिल गए। तब खरगोश ने नेवले को मरहम लगाने को दिया और कहा इसे लगा लो, आराम मिलेगा। नेवले ने जैसे ही मरहम लगाया तो वो दर्द में बेहाल हो गया। तब नेवले को खरगोश की चाल समझ आ गई। और उसने अब से दूसरों के साथ ऐसी बदमाशी नहीं करने की कसम खा ली। क्योंकि उसे समझ आ गया कि उसकी बदमाशी से दुसरो को भी कितना दर्द होता होगा।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ
जीवन की ढलने लगी सांझ उमर घट गई डगर कट गई जीवन की ढलने लगी सांझ।

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी ...

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी मत देना
मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊँचाई कभी मत देना गैरों को गले न लगा सकूँ इतनी रुखाई कभी मत ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक पटल, बहुत याद आएंगे अटल
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वह ना केवल एक ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते हैं सोच...
अटल बिहारी वाजपेयी ने शिक्षा, भाषा और साहित्य पर हमेशा जोर दिया। उनके अनुसार शिक्षा और ...

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता : जीवन को शत-शत आहुति में, जलना ...

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता : जीवन को शत-शत आहुति में, जलना होगा, गलना होगा
बाधाएं आती हैं आएं घिरें प्रलय की घोर घटाएं, पांवों के नीचे अंगारे, सिर पर बरसें यदि ...

श्रावण मास की खास आखिरी सवारी 20 अगस्त को, शिव, श्रावण और ...

श्रावण मास की खास आखिरी सवारी 20 अगस्त को, शिव, श्रावण और उज्जैन का त्रिवेणी संगम
श्रावण सोमवार को राजाधिराज महाकाल महाराज पूरे लाव लष्कर के साथ अपनी प्रजा का हाल जानने ...

भोलेनाथ शंकर की सुंदर भावनात्मक स्तुति : जय शिवशंकर, जय ...

भोलेनाथ शंकर की सुंदर भावनात्मक स्तुति : जय शिवशंकर, जय गंगाधर, करुणा-कर करतार हरे
जय शिवशंकर, जय गंगाधर, करुणा-कर करतार हरे, जय कैलाशी, जय अविनाशी, सुखराशि, सुख-सार ...

20 अगस्त को श्रावण का अंतिम सोमवार, अपनी राशि अनुसार कुछ इस ...

20 अगस्त को श्रावण का अंतिम सोमवार, अपनी राशि अनुसार कुछ इस तरह करें शिव को प्रसन्न
मेष राशि के जातकों को श्रावण मास के अंतिम सोमवार पर शिवजी को आंकड़े का फूल चढ़ाना चाहिए। ...

श्रावण मास में जरूरी है भगवान शिव के साथ प्रभु श्रीराम का ...

श्रावण मास में जरूरी है भगवान शिव के साथ प्रभु श्रीराम का पूजन, जानिए क्या है राज
श्रावण मास में शिव का प्रिय मंत्र 'ॐ नमः शिवाय' एवं 'श्रीराम जय राम जय जय राम' मंत्र का ...

बस सात दिन और बचे हैं सावन को खत्म होने में, कर लीजिए यह ...

बस सात दिन और बचे हैं सावन को खत्म होने में, कर लीजिए यह उपाय
26 अगस्त 2018 को रक्षाबंधन के पर्व के साथ ही सावन का पावन महीना समाप्त हो जाएगा। पूजन, ...