ग्रीष्म ऋतु पर मनोरंजक कविता



- राजेन्द्र देवधरे 'दर्पण'

राम-श्याम
सुबहोशाम
खाते रहते
मीठा आम।
बाल-पाल
गए चौपाल
नहीं मिला
तरबूजा लाल।

तू जा-तू जा
करती पूजा
खुद ले आई
झट खरबूजा।

रानी-बानी
दोऊ सयानी
देती सबको
ठंडा पानी

साभार- देवपुत्र

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :