बाल गीत : चिड़िया सोच रही है...



चिड़िया सोच रही है जाकर,
रपट लिखा दें थाने में।

कई दिनों की भूखी-प्यासी,
मिला न दाना-पानी।
बंद हुए अब,
हो गई बंद नहानी।
पेड़ कट गए जो करते थे,
मदद हमें ठहराने में।

नाममात्र को रखे सकौरे,
जो हैं खाली-खाली।
पानी थोड़ा डाला होगा,
पी गए ढोर-मवाली।
रोज बर्बाद कर रहे,
हमें क्या मिला खाने में?

रोज हो रहा हल्ला।
पर हम कितने कदम चले हैं,
तुम्हीं बताओ लल्ला।
पड़ी ढेर सी स्कीमें हैं,
वादों के तहखाने में।

आसमान में घुला जहर है,
धरती हुई विषैली।
क्या उम्मीद करें लोगों से,
सोच हो गई मैली।
सेंध लग रही रोज हमारे,
खाने और ठिकाने में।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :