धमा-चौकड़ी मचाता बाल गीत : सांप रबर के...


 
 
मुन्ना मेले से दो लाया,
काले-काले रबर के।
 
भरी दुपहरिया उसने दोनों,
फेंके सांप बड़ी दीदी पर।
डर के मारे फूट पड़ा था,
दीदी के चिल्लाने का स्वर।
 
क्या कर पाती वह बेचारी,
हो बेहोश गिर पड़ी डर से।
 
पहले तो मम्मीजी दौड़ीं,
देखा चीख कहां से आई।
छुटकी ने देखा सांपों को,
सांप-सांप कह वह चिल्लाई।
 
हुआ शोरगुल तो फौरन ही,
हाजिर हुए लोग घर भर के।
 
सांप पड़े देखे दादा ने,
हट्ट-हट्ट कर लगे भगाने।
लाठी लाओ, लाठी लाओ,
लगे जोर से वे चिल्लाने।
 
दोनों सांप भयंकर हैं ये,
लाठी ठोंक निकालो घर से।
 
घर के लोग सभी थे विचलित,
बात समझ मुन्ना को आई।
दोनों सांप नहीं हैं असली,
नकली हैं यह बात बताई।
 
डांट पड़ रही अब मुन्ना को,
दादीजी के तीखे स्वर से।
 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :