कविता : बरखा रानी आती है


 
 
 
 
जब-जब पानी आता है,
पत्ते, फूल खिलाता है।
बरखा रानी आती है,
रिमझिम पानी लाती है।।
 
पानी आता झर-झर,
बादल गरजते गर-गर-गर।
बिजली रानी चमकती है,
लगता अच्‍छा नभ मंडल।। 
 
कभी आता ज्यादा पानी,
कभी आता पानी कम।
कभी कहीं पर बाढ़ बोलती,
कभी बोलता सूखापन।।
 
- गार्गी जमड़ा साभार - देवपुत्र
>

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :