बाल गीत : लपक लिए आम


लपकी ने लपक लिए,
थैले से आम।

अम्मा से बोली है,
आठ आम लूंगी मैं।
भैया को, दीदी को,
एक नहीं दूंगी मैं।
जो भी हो फिर चाहे,
इसका अंजाम।
न जाने किसने कल,
बीस आम खाए थे।
अम्मा ने दिन में जो,
फ्रिज में रखवाए थे।
शक के घेरे में था,
मेरा भी नाम।

नाना के आमों के,
बागों में जाऊंगी।
आमों संग नाचूंगी,
आमों संग गाऊंगी।
गर्मी की छुट्टी बस,
आमों के नाम।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :