बाल गीत : जीत के परचम...


 
 
मन को लुभा रहे हैं, 
ये फूल के।
 
ये लाल-लाल लुच-लुच, 
डालों पे डोलते हैं।
कुछ ध्यान से सुनो तो, 
शायद ये बोलते हैं।
सब लोग इन्हें देखें, 
रुक-रुक, ठहर-ठहर के। 
 
चुन्ना ने एक अंगुली, 
उस ओर है उठाई। 
देखा जो गुलमोहर तो, 
चिन्नी भी खिलखिलाई। 
मस्ती में धूल चूमें, 
नीचे बिखर-बिखर के।
 
हंसते हैं मुस्कुराते, 
ये सूर्य को चिढ़ाते।
आनंद का अंगूठा, 
ये धूप को दिखाते।
हैं जीत के ये परचम, 
उड़ते फहर-फहर के।
 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :