Widgets Magazine

बाल गीत : नदी पार के हरे-भरे तट

Author प्रभुदयाल श्रीवास्तव|

 
 
 
गर्मी बहुत तेज है चलते, 
मुंडा घाट नहाने। 
पापाजी को भैयन, बिन्नू, 
लगते रोज मनाने।
 
किलेघाट का पानी रीता, 
रेत बची है बाकी।
उसी रेत में गड्ढा करके, 
पानी लाती काकी।
घर के लोग वही जल पीते, 
अपनी प्यास बुझाने।
 
गर्मी का मौसम आता तो, 
त्राहि-त्राहि मच जाती।
नहीं एक भी बूंद कहीं से, 
जल की थी मिल पाती।
मुंडा घाट चली जाती थी, 
मुन्नी इसी बहाने।
 
मुंडाघाट शहर रहली में, 
है सुनार का घाट।
जब हम छोटे थे दिखता था, 
कितना चौड़ा पाट।
के हरे-भरे तट, 
लगते बड़े सुहाने।
Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine