इस विधि से करेंगे हनुमान पूजन तो मिलेगा शुभ वरदान, पढ़ें शुभ संयोग, मुहूर्त और उपाय



इस विधि से करेंगे हनुमान पूजन तो मिलेगा शुभ वरदान


19 अप्रैल शुक्रवार को हनुमान जयंती है। आइए जानते हैं इस दिन किस विधि से पूजन कर के शुभ वरदान पाए जा सकते हैं।

अप्रैल शुक्रवार को चैत्र पूर्णिमा है। यह दिन बहुत ही शुभ और पवित्र माना जाता है। इस दौरान कोई भी नया काम शुरू करना बहुत शुभ होता है। चैत्र पूर्णिमा को हनुमान जी के जन्मदिन के रूप में मनाते हैं। इस बार हनुमान जयंती शुक्रवार को है। इस दौरान मंगल का चित्रा नक्षत्र भी है।

शुभ संयोग : इस वर्ष हनुमान जयंती पर दो खास ज्योतिष नक्षत्र बन रहे हैं। पहला है चित्रा और दूसरा है गजकेसरी योग। पंचांग के अनुसार 18 अप्रैल की रात 9 बजकर 23 मिनट पर चित्रा नक्षत्र प्रारंभ हो जाएगा। यह नक्षत्र अगले दिन दिन यानी 19 अप्रैल की शाम 7 बजकर 19 मिनट तक मान्य रहेगा। दूसरा नक्षत्र गजकेसरी सूर्योदय से ही प्रारंभ हो जाएगा। इन दोनों नक्षत्रों के बीच ही केसरी नंदन भगवान हनुमान का जन्म होगा।

हनुमान पूजा कैसे करें-

- शाम को लाल वस्त्र बिछाकर हनुमान जी की मूर्ति या फोटो को दक्षिण मुंह करके स्थापित करें।

- खुद लाल आसान पर लाल वस्त्र पहनकर बैठ जाएं।


- घी का दीपक और चंदन की अगरबत्ती या धूप जलाएं।


- चमेली तेल में घोलकर नारंगी सिंदूर और चांदी का वर्क चढ़ाएं।


- इसके बाद लाल फूल से पुष्पांजलि दें।

- लड्डू या बूंदी के प्रसाद का भोग लगाएं।

- केले का भोग भी लगा सकते हैं।


- दीपक से 9 बार घुमाकर आरती करें।

- मन्त्र ॐ मंगलमूर्ति हनुमते नमः का जाप करें।

विशेष उपाय

- हनुमान जी पर जल चढ़ाने के बाद पंचामृत चढ़ाएं।


- तिल के तेल में नारंगी सिंदूर घोलकर चढ़ाएं।


- चमेली की खुश्बू या तेल चढ़ाएं।

- हनुमान जी को लाल पुष्प ही चढ़ाएं।


- हनुमान जी को गुड़, गेहूं के आटा की रोटी और चूरमा का भोग लगाएं।

- मंत्र : श्री राम भक्ताय हनुमते नमः का जाप करें।

- हनुमान जी को इमरती का भोग लगाएं।

- हनुमान जी को रसीला पान चढ़ाएं।

- हनुमान जी को 11 पीपल के पत्तों पर नारंगी और सिंदूर से राम-राम लिखकर चढ़ा दें।

- एक सूखे गोले को छेद करके उसमें शक्कर भरकर हनुमान जी को चढ़ाएं।

- हनुमान जी को 11 लडडू चढ़ाएं।



- 31 गुलाब की अगरबत्ती जलाएं।

शुभ मुहूर्त

हनुमान जयंती तिथि – शुक्रवार, 19 अप्रैल 2019

पूर्णिमा तिथि आरंभ – 18 अप्रैल 2019 को शाम 07:26 बजे से

पूर्णिमा तिथि समाप्त – 19 अप्रैल 2019 को शाम 04:41 बजे तक


और भी पढ़ें :