Widgets Magazine

IPL-10 : 'ऑरेंज कैप’ के लिए बल्लेबाजों में रोचक जंग

पुनः संशोधित मंगलवार, 2 मई 2017 (20:10 IST)
नई दिल्ली। भले ही भारत के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला में अपेक्षानुरूप प्रदर्शन नहीं कर पाए लेकिन आईपीएल में उनका बल्ला रन उगल रहा है और वह की दौड़ में सबसे आगे बने हुए हैं लेकिन उन्हें गौतम गंभीर, रोबिन उथप्पा और जैसे भारतीय खिलाड़ियों से कड़ी चुनौती मिल रही है। 
 
वॉर्नर ने दिल्ली डेयरडेविल्स के खिलाफ मैच से पहले तक नौ मैचों में 459 रन बनाए हैं और उनके नाम पर एक शतक और तीन अर्धशतक दर्ज हैं। आईपीएल में ऑरेंज कैप यानि टूर्नामेंट में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज का इनाम अधिकतर आस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को मिलता रहा है और वॉर्नर दूसरी बार इस पुरस्कार को हासिल करने की तरफ मजबूती से कदम बढ़ा रहे हैं। इससे पहले उन्होंने 2015 में 562 रन बनाकर ऑरेंज कैप हासिल की थी। 
 
सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान को हालांकि कोलकाता नाइटराइडर्स के शीर्ष क्रम के बल्लेबाजों कप्तान (387 रन) और रोबिन उथप्पा (384 रन) से कड़ी चुनौती मिल रही है। इनके अलावा सनराइजर्स के सलामी बल्लेबाज शिखर धवन (341 रन) और राइजिंग पुणे सुपरजाइंट के कप्तान स्टीव स्मिथ (341) के दावे को भी कम नहीं आंका जा सकता है। 
 
पिछले नौ वषरें में चार बार ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों ने आईपीएल में ऑरेंज कैप हासिल की है। शान मार्श (616) ने 2008 में जबकि मैथ्यू हेडन (572) ने 2009 में यह पुरस्कार हासिल किया था। माइकल हस्सी ने 2013 में 733 रन जोड़कर सभी को पीछे छोड़ दिया था। अब तक केवल क्रिस गेल ही एकमात्र ऐसे बल्लेबाज हैं जो दो बार ऑरेंज कैप हासिल कर चुके हैं। उन्होंने 2011 में 608 और 2013 में 733 रन बनाकर यह सम्मान हासिल किया था। 
 
अगर सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज को मिलने वाली 'पर्पल कैप' की बात करें तो फिलहाल सनराइजर्स हैदराबाद के भुवनेश्वर कुमार इस दौड़ में सबसे आगे हैं। दिल्ली के खिलाफ मैच से पहले उनके नाम पर 20 विकेट दर्ज थे। उनके बाद पुणे के लेग स्पिनर इमरान ताहिर (16 विकेट) और मुंबई इंडियन्स के तेज गेंदबाज मिशेल मैकलेनगन (15 विकेट) का नंबर आता है।
 
भुवनेश्वर अगर अपना अच्छा प्रदर्शन जारी रखते हैं तो उनके पास दो बार पर्पल कैप हासिल करने वाला दूसरा गेंदबाज बनने का सुनहरा मौका है। उन्होंने पिछले साल 23 विकेट लेकर यह उपलब्धि हासिल की थी। इससे पहले केवल ड्वेन ब्रावो ही यह कारनामा कर पाए हैं। वेस्टइंडीज के इस आलराउंडर ने 2013 और 2015 में चेन्नई सुपरकिंग्स की तरफ से खेलते हुए पर्पल कैप हासिल की थी। ब्रावो ने 2013 में 32 विकेट लिए थे जो एक सत्र में सर्वाधिक विकेट का रिकार्ड भी है।
 
पाकिस्तान के सोहेल तनवीर पर्पल कैप हासिल करने वाले पहले गेंदबाज थे। उन्होंने 2008 में 22 विकेट लेकर यह पुरस्कार हासिल किया था। उनके बाद आरपी सिंह (23 विकेट), प्रज्ञान ओझा (21), लसित मलिंगा (28), मोर्ने मोर्कल (25), ब्रावो (32), मोहित शर्मा (23), ब्रावो (26) और भुवनेश्वर ने इस सूची में अपना नाम लिखवाया।
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine
Widgets Magazine