'महामुकाबले' के लिए तैयार धोनी और रोहित

कोलकाता| पुनः संशोधित शनिवार, 23 मई 2015 (18:54 IST)
कोलकाता। खेल,रोमांच,मनोरंजन और मालामाल करने वाले दुनिया के सबसे लोकप्रिय दनादन क्रिकेट टूर्नामेंट इंडियन प्रीमियर लीग में छठी बार फाइनल में पहुंची और पूर्व चैंपियन रविवार को ऐतिहासिक ईडन गार्डन मैदान पर पूरे दमखम के साथ आठवें संस्करण का खिताब पाने के लिए उतरेंगे।
महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में दो बार खिताब जीत चुकी चेन्नई तीसरी बार चैंपियन का ताज पाने के लिए उतरेगी तो दूसरी तरफ सितारों से सजी मुंबई अपने युवा कप्तान के नेतृत्व में दूसरी बार खिताब पर कब्जा करने के लिए चुनौती पेश करेगी। इस बात में कोई दो राय नहीं कि फाइनल तक पहुंचने वाली हर टीम श्रेष्ठ होती है इसलिए किसी को भी कमतर आंकना गलत होगा और ऐसे में इनके बीच 'महामुकाबले' की अपेक्षा की जा सकती है।
 
चेन्नई ने दूसरे क्वालीफायर में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु को नॉकआउट कर फाइनल में जगह पक्की की। आईपीएल का यह आठवां संस्करण है और टूर्नामेंट में यह ओवरऑल छठा मौका है जब चेन्नई ने फाइनल में प्रवेश किया है। वर्ष 2008, 2010, 2011, 2012, 2013 और अब 2015 में आईपीएल के खिताबी मुकाबले में जगह पक्की की है और 2010-11 में लगातार दो बार खिताब जीता। दूसरी ओर मुंबई 2013 की चैंपियन है। मुंबई तीसरी बार आईपीएल के फाइनल में पहुंची है, जबकि 2010 में वह उपविजेता रही थी।
 
मौजूदा संस्करण की बात करें तो चेन्नई ने जहां अपेक्षा के अनुरूप ही प्रदर्शन किया और ग्रुप चरण में अच्छे प्रदर्शन की बदौलत अंकतालिका में शीर्ष पर रही तो मुंबई ने सबसे बड़ा उलटफेर किया और शुरुआती चार मैच हारने तथा एक समय अंकतालिका में सबसे आखिरी स्थान पर पहुंचने के बावजूद ऐसी जबरदस्त वापसी की कि आखिर में न सिर्फ दूसरे स्थान पर पहुंची, बल्कि पहले क्वालीफायर में शीर्ष टीम चेन्नई को चौंका कर सीधे फाइनल में भी जगह पक्की कर ली और चेन्नई के लिए इस टीम से पार पाना निश्चित ही आसान नहीं होगा। (वार्ता)
 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :