सऊदी अरब के साथ हथियार समझौता रद्द करने के खिलाफ हैं डोनाल्ड ट्रंप

Last Updated: रविवार, 14 अक्टूबर 2018 (14:18 IST)
वॉशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति ने रविवार को कहा कि वे के साथ 110 अरब डॉलर के बड़े हथियार सौदे को रद्द करने के खिलाफ हैं, क्योंकि इससे देश की अर्थव्यवस्था और नौकरियों पर असर पड़ेगा।

जमाल खाशोगी के अचानक लापता हो जाने के बाद मीडिया और अमेरिकी कांग्रेस की तरफ से सऊदी अरब के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए जबर्दस्त दबाव के बीच ट्रंप ने संवाददाताओं से कहा कि वे इस मुद्दे की तह में जाने का प्रयास कर रहे हैं और सऊदी अरब से इस बारे में ब्योरा मांगा है।

'वॉशिंगटन पोस्ट' के लिए लिखने वाले खाशोगी की इंस्ताबुल में सऊदी वाणिज्य दूतावास के भीतर सऊदी अधिकारियों द्वारा हत्या कर दिए जाने की आशंका है। खाशोगी को अंतिम बार वहां प्रवेश करते हुए देखा गया था।
तुर्की के अधिकारियों ने दावा किया कि उनके पास ऑडियो और वीडियो है जिससे संकेत मिलता है कि वाणिज्य दूतावास में खाशोगी की जघन्य हत्या कर दी गई। सऊदी अरब ने अब तक आरोपों का खंडन किया है, हालांकि इस मुद्दे को लेकर उसे दुनियाभर में आक्रोश का सामना करना पड़ रहा है।

ट्रंप ने कहा कि उनकी इस मुद्दे पर सऊदी शाह से बात करने की योजना है। मैं सऊदी अरब के शाह सलमान को भी फोन करूंगा, क्योंकि मुझे लगता है कि क्या चल रहा है? इस बारे में मेरा उनसे पूछना उचित रहेगा, हालांकि उन्होंने कहा कि वे इसकी वजह से सऊदी अरब के साथ 110 अरब डॉलर का बड़ा हथियार सौदा रद्द करने के खिलाफ हैं।
उन्होंने जोर देकर कहा कि इस कदम से अमेरिका में नौकरियों पर असर पड़ेगा। इसके अलावा अगर अमेरिका पीछे हटता है तो रूस और चीन उसे जरूरी हथियारों की आपूर्ति करने के लिए तैयार हैं तथा इस संबंध में उन्होंने कोई अंतिम निर्णय नहीं किया है। (भाषा)


और भी पढ़ें :