रूस का दावा 'ई-बम' से खत्म कर देंगे पूरी अमेरिकी नौसेना...

पुनः संशोधित गुरुवार, 20 अप्रैल 2017 (20:01 IST)
ने दावा किया है कि वह सिर्फ एक बम से समूची अमेरिकी नौसेना का सफाया कर सकता है। रूस के सरकारी मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक 'इलेक्ट्रॉनिक बम' की तकनीक से लड़ाकू विमानों, युद्धपोतो और मिसाइलों को बेकार किया जा सकता है। न्यूजरीडर की रिपोर्ट में लिखा है, 'आज हमारे रसियन इलेक्ट्रॉनिक वॉरफेयर के जवान किसी भी हथियार की पहचान कर सकते हैं और युद्धपोत, रेडार या सैटेलाइट जैसे किसी भी तरह के टारगेट को खत्म कर सकते हैं।'
न्यूज रिपोर्ट में दावा किया गया है कि कई साल पहले ब्लैक सी में इकलौता रूसी लड़ाकू विमान अमेरिकी विध्वंसक यूएसएस डॉनल्ड कुक के ऊपर कई बार उड़ा था और उसके सिस्टम को बेकार करके उसे असहाय कर दिया था। रिपोर्ट यह भी दावा करती है कि वे अपने बेस के ऊपर इलेक्ट्रॉनिक जैमर लगाने में सक्षम है जिससे वह रेडार स्क्रीन्स पर अदृश्य हो जाएगा।

यहां तक कि इस प्रॉपेगैंडा रिपोर्ट में अमेरिकी जनरल फ्रैंक गोरेंक के हवाले से कहा गया है, 'रूसी इलेक्ट्रॉनिक हथियार मिसाइलों, लड़ाकू विमानों और युद्धपोतों पर लगे अमेरिकी इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम के कामकाज को पूरी तरह से लकवाग्रस्त कर सकता है।' रिपोर्टर ने यह भी लिखा है कि रूस के ताकतवर रेडियो इलेक्ट्रॉनिक जैमिंग सिस्टम को भेदना मुश्किल है।

उल्लेखनीय है कि हाल ही में डॉनल्ड ट्रंप ने न्यूक्लियर रिएक्टर से चलने वाले यूएसएस कार्ल विंसन को कोरियाई प्रायद्वीप के लिए रवाना किया है। यूएसएस कार्ल विंसन पर करीब 100 एयरक्राफ्ट, एक क्रूजर और एक पनडुब्बी जैसे विध्वंसक तैनात हैं। इसके अलावा अमेरिका अगले हफ्ते जापान सागर में यूएसएस रोनाल्ड रीगन और यूएसएस निमित्ज की तैनाती की तैयारी कर रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार क्षेत्र में बढ़ते के मद्देनजर चीन के साथ मिलकर रूस ने कोरियाई प्रायद्वीप में एक जासूसी जहाज भेजा है।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :