रेप करके तुझे मुसलमान बना रहा हूं, 12 साल की बच्ची की दर्दनाक कहानी...

पुनः संशोधित मंगलवार, 19 जनवरी 2016 (14:40 IST)
ने एक बार फिर से अपना खौफनाक और बर्बर चेहरा दिखाया है। उत्तरी इराक के सिंजर शहर में इस संगठन ने 5 हजार से ज्यादा यजीदी महिलाओं और बच्चियों को बंधक बना लिया और फिर उसके बाद इनके साथ क्रूरता की हदें पार कर दी। इन्हें सेक्स गुलाम के रूप में बेचा गया। इनकी जिंदगी में बलात्कार, गुलामी और प्रताड़ना ही शेष गई हैं। 
'डेली मेल' में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक आतंकियों ने 12 साल की लड़की से भी बिना कोई दया दिखाए रेप किया और उसे प्रताड़ित किया। इस मासूम के खुलासे में आतंकी संगठन की क्रूरता और इंसानियत की हदें लांघ देने वाली कहानी सामने आई है। 
 
12 साल की यजीदी लड़की ने अपनी आपबीती और खौफनाक दास्तान बयान की। उसने बताया कि सुरक्षित ठिकाने पर ले जाने के नाम पर के लोग सीरिया ले गए, जिसमें कई लड़कियां शामिल थी। उसके बाद हमें पीटा जाता था। कई दिन तक खाना नहीं दिया जाता था। फिर हमें सेक्स गुलाम के तौर पर बेच दिया गया।
 
10 महीने तक आईएसआईएस के आतंकियों के कब्जे में रहनेवाली परला ने बताया कि IS के आतंकियों ने मुझे सउदी अरब के एक वृद्ध के हाथों बेच दिया गया जिसने मुझ पर बर्बर अत्याचार ढाया। सउदी अरब के जिस मालिक ने मुझे खरीदा था वह मुझसे रोज रेप करता था। रेप के बाद कहता था कि तुम्हारे साथ सोकर तुम्हें मुसलमान बना रहा हूं। हमें खाने के लिए कम भोजन दिया जाता था और कहा जाता था कि गुलामों को पेटभर भोजन की आजादी नहीं है।
 
फिर मुझे एक तजाकिस्तान के आदमी ने खरीद लिया। दो महीने बाद ही उसकी मौत हो गई और मेरा मालिक बदल गया। इस बार मुझे बेचा नहीं गया बल्कि तोहफे के रूप में दिया गया।> > मेरा मालिक हर बार रेप करने के बाद मेरे हाथ- पैर बांध देता था और मेरी पिटाई करता था। अत्याचार और जुल्म का यह सिलसिला चलता रहा और मैं घुट-घुटकर जीती रही। 
 
परला ने अपनी दर्दनाक दास्तान में यह भी कहा कि हमें कई लोगों के साथ एक लड़कियों के स्कूल में रखा गया और इस दौरान हमपर इस्लाम धर्म कबूल करने का दबाव भी बना गया।
सऊदी में एक विवाहित मालिक ने मेरे साथ कई बार रेप किया। आईएसआईएस के कब्जे में मेरे परिवार के और भी लोग है लेकिन मुझे नहीं पता कि वो जिंदा है भी या नहीं। (एजेंसियां)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :