बंदूक चुराकर आईएस समर्थक ने मारी पुलिसकर्मी को गोली

न्यूयॉर्क| Last Updated: शनिवार, 9 जनवरी 2016 (09:48 IST)
न्यूयॉर्क। से जुड़े होने का दावा करने वाले एक व्यक्ति ने फिलाडेल्फिया में एक पुलिसकर्मी पर बेहद करीब से निशाना साधते हुए कई गोलियां दागकर उसे गंभीर रूप से घायल कर दिया। पुलिस की चुराई गई बंदूक से एक पुलिसकर्मी पर हमला बोलने वाले इस व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया गया।
हत्या करने की यह कोशिश ऐसे समय की गई है जबकि कैलिफोर्निया में पिछले महीने कट्टरपंथी मुस्लिम दंपति द्वारा किए गए हमले के बाद से अमेरिका में सुरक्षा बढ़ाई गई है। इस हमले में 14 लोगों की मौत हो गई थी। इससे पहले नवंबर में पेरिस में भी आतंकवादी हमला हुआ था।
 
पुलिसकर्मी जेसी हार्टनेट (33) पूर्वोत्तर शहर में गुरुवार देर रात जब गश्त करने वाली अपनी कार में बैठे तभी उनके बाएं हाथ पर तीन बार गोली मारी गई। गोली लगते ही हार्टनेट ने चिल्लाते हुए सूचित किया, 'मुझे गोली लगी है। मेरे शरीर से बहुत खून निकल रहा है।' अधिकारियों ने इस बात पर हैरानी जताई कि हार्टनेट की जान बच गई।
 
फिलाडेल्फिया के पुलिस आयुक्त रिचर्ड रॉस ने शुक्रवार को इस हमले को 'बेहद भयानक' हमला करार दिया था और अधिकारी को 'बहुत, बहुत गंभीर' रूप से घायल बताया था।
 
वीडियो निगरानी से लिए गए फोटो प्रेस में जारी किए हैं जिनमें दिखाया गया है कि संदिग्ध गश्त करने वाली कार की ओर बढता हुआ आया, उसने वाहन में अपना हाथ घुसाया और गोलियां चलाईं और वहां से भागते समय भी वह गोलियां चलाता रहा।
 
घायल होने के बावजूद अधिकारी वाहन से निकला और पलटकर गोलियां चलाने और संदिग्ध को चोट पहुंचाने में सफल रहा जिसे बाद में तत्काल गिरफ्तार कर लिया गया। हत्या संबंधी मामलों को देखने वाली पुलिस के कैप्टन जेम्स क्लार्क ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, 'उसने कहा है कि उसने इस्लामिक स्टेट का साथ देने का संकल्प लिया है, वह अल्लाह को मानता है और यही कारण है कि उसे ऐसा करने के लिए बुलाया गया।' पुलिस ने बताया कि संदिग्ध का नाम एडवर्ड आर्चर (30) है और उसकी आपराधिक पृष्ठभूमि है लेकिन यह अस्पष्ट है कि उसने अकेले इस घटना को अंजाम दिया था या यह एक बड़े षड़यंत्र का हिस्सा था।
 
उन्होंने कहा कि वह पांच साल का अनुभव रखने वाले हार्टनेट के बच जाने से 'बहुत अचंभित' हैं। उन्होंने कहा, 'उस व्यक्ति ने मात्र नौ मिलीमीटर की दूरी से कम से कम 11 गोलियां चलाईं।' पुलिस ने कहा कि अभी यह स्पष्ट नहीं है कि संदिग्ध को हथियार कहां से मिला जो कि अक्तूबर 2013 में पुलिस से चुराया गया था।
 
रॉस ने कहा, 'यह उन चीजों में से एक है जिन पर आपको सबसे अधिक खेद होता है कि एक पुलिस अधिकारी की बंदूक चुराई गई और उसका इस्तेमाल आपके किसी अपने के खिलाफ किया गया।'(भाषा)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :