दुनियाभर में हुआ नववर्ष 2018 का स्वागत

Last Updated: सोमवार, 1 जनवरी 2018 (01:08 IST)
ऑकलैंड। समेत दुनिया के कई देशों में नए साल 2018 के आगमन में अभी कुछ वक्त बाकी है, लेकिन में नववर्ष ने दस्तक दे दी है। नए साल के मौके पर में बहुत बड़ा जश्न चल रहा है। यही हाल क्राइस्टचर्च का भी है, जहां लोग नववर्ष की एक-दूसरे को बधाइयां देकर नए साल के जश्न मना रहे हैं। हर साल की तरह इस साल भी नए साल का आगमन न्यूजीलैंड से हुआ।

घड़ी की सुइयों ने जैसे ही 12 बजे का वक्त बताया, वैसे ही जोरदार आतिशबाजी शुरू हो गई। ऑकलैंड के स्काई टॉवर में आतिशबाजी करीब पांच मिनट तक शानदार शैली में नए साल की शुरुआत हुई जबकि देशभर में लाखों लोगों नए साल के समारोहों के लिए इकट्ठा हुए। यहां पर करीब 3 हजार से ज्यादा रॉकेट छोड़कर आतिशबाजी की गई।



ऑकलैंड में बेल्जियन डीजे नेटस्की ने 2018 की पहली बीट्स प्रदान की और न्यूजीलैंड के लिए 2017 की याद में एक वीडियो के दौरान उनके कुछ प्यार भी दिखाया।
यहां पर एक बड़े से स्क्रीम पर वीडियो ने बड़ी खेल घटनाओं, समाचार और मनोरंजन की घटनाओं को याद किया जिसका आनंद सैकड़ों लोगों ने लिया। ये जश्न आधी रात तक चलने वाला है। वीडियो पर न्यूजीलैंड के प्रधानमंत्री प्रधानमंत्री जसिंदा आर्डन की 2017 के चुनाव की जीत को दिखाया गया।


सिडनी में नए वर्ष के स्वागत का जश्न : सिडनी में वर्ष 2018 का स्वागत शानदार तरीके से किया गया जहां इस शहर के प्रसिद्ध विक्टोरिया हार्बर के ऊपर अद्भुत आतिशबाजी की गई। हार्बर के पास प्रसिद्ध आतिशबाजी का नजारा लेने के लिए हजारों लोग एकत्रित हुए थे। 10 मिनट के संगीतमय आतिशबाजी के दौरान ऊंची इमारतों की छतों से ‘शूटिंग स्टार’ पटाखे भी छोड़े गए।

तीन घंटे पहले ऑस्ट्रेलिया में नए वर्ष का आगाज सतरंगी आतिशबाजी से हुआ जो कि सिडनी हार्बर ब्रिज के ऊपर की गई। करीब 15 लाख लोग ऐतिहासिक पुल और ओपेरा हाउस के ऊपर आतिशबाजी का नजारा लेने के लिए शहर के समुद्र किनारे जुटे। यह न्यूजीलैंड के बाद पूरे विश्व में होने वाला सबसे प्रमुख जश्न समारोह है।

न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया के अलावा सिंगापुर और थाईलैंड से भी नए साल का जश्न गर्मजोशी के साथ मनाए जाने के समाचार मिल रहे हैं।इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में प्रशासन की ओर से आयोजित मुफ्त सामूहिक विवाह समारोह में सैकड़ों जोड़े शामिल हुए।


भारत में जैसे-जैसे घड़ी की सुईयों के कांटे आगे बढ़ रहे हैं, वैसे-वैसे मुंबई, दिल्ली कोलकाता, के साथ ही देश के कई बड़े शहरों में युवाओं की बेसब्री '2018' को कहने के लिए बढ़ती ही जा रही है।


जगह-जगह युवाओं की टोली डीजे की तेज पर नाच रहे हैं। देश के बड़े शहरों में होटलों में कई युवक-युवतियां और परिवार यादगार बनाने के लिए जमा हुए हैं। कुछ लोग डांस कर रहे हैं तो कुछ बातों के जरिए 2017 के साल को याद कर रहे हैं। यही नहीं, आने वाले साल के लिए लोग योजनाएं बनाने में भी पीछे नहीं हैं।

मेरे रश्के क़मर की धुन पर थिरके : नए साल का जश्न मना रहे युवाओं में नुसरत फतेह अली का गीत ' मेरे रश्के क़मर, तू ने पहली नज़र जब नज़र से मिलाई मज़ा आ गया...' पहली पसंद बना रहा। ज्यादातर पार्टियों में यही गीत बजता रहा तो कोई गायक या गायिका अपनी आवाज में इस गीत को गाते रहे। इस गीत पर लड़के और लड़कियों ने कमर भी खूब मटकाई...

राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने दी शुभकामनाएं : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने देशवासियों को नव वर्ष की शुभकामनाएं दी हैं। राष्ट्रपति ने अपने संदेश में कहा है, 'नव वर्ष का समय संकल्प और नवीकरण का होता है। नव वर्ष के आगाज पर हम खुशहाली तथा देश को एकता के सूत्र में बांधने के प्रति वचनबद्धता प्रकट करें। अपनी भावी पीढियों को साफ सुथरा तथा हरा भरा पर्यावरण देने का संकल्प लें।'

उन्होंने कहा कि वह सभी भारतीयों चाहे वे देश में हों या विदेश में हो को नव वर्ष की शुभकामना देते हैं और कामना करते हैं कि सभी के जीवन में खुशी तथा स्मृद्धि आए। नायडू ने भी सभी देशवासियों को नव वर्ष की शुभकामनाएं देते हुए कहा है कि सब अपने आपको शांतिपूर्ण, समृद्ध और सद्भावपूर्ण समाज के निर्माण के लिए समर्पित करने का संकल्प लें।

दिल्ली में शराब पीकर ड्राइव नहीं करेंगे : दिल्ली में कई लोग होटलों में शराब के सुरूर में पार्टी में एंजाय कर रहे हैं और कई लोग अपने साथ ड्राइवर भी लाए हैं क्योंकि सड़क पर शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों के खिलाफ पुलिस सड़कों पर उतरी हुई है। में भी देर शाम तक पार्टियों का दौर चलता रहा और कई लोग नए साल के आगमन का गर्मजोशी के साथ स्वागत करने में लगे हुए हैं।

शिमला-मनाली में नहीं हुई बर्फबारी : उधर हिमाचल के पर्यटन स्थलों शिमला और मनाली में नववर्ष की पूर्व संध्या पर बर्फबारी नहीं होने से सैलानियों में मायूसी फैल गई। इन पर्यटन स्थलों पर दिन भर धूप-छांव का दौर चलता रहा। साल 2011 के बाद शिमला में न्यू ईयर ईव पर बर्फबारी नहीं हुई। इन पर्यटक स्थलों में हर बार हजारों सैलानी बर्फबारी की चाह में उमड़ते हैं।

रविवार को शिमला और मनाली में बारिश-बर्फबारी तो नहीं हुई, लेकिन आसमान के बादलों से घिरे रहने से मौसम ठंडा रहा। शिमला में न्यूनतम तापमान 4.2 और अधिकतम तापमान 13 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जबकि मनाली में न्यूनतम तापमान माइनस 0.6 डिग्री रहा।


मौसम विभाग ने आगामी 24 घंटों के दौरान प्रदेश के उच्च पर्वतीय क्षेत्रों में बर्फबारी की संभावना जताई है, लेकिन राज्य के अन्य हिस्सों में 3 जनवरी तक मौसम साफ बना रहेगा। मौसम विभाग के अनुसार राज्य के पर्यटन स्थलों शिमला, मनाली और डल्हौजी में नए साल का स्वागत बादलों से हो सकता है, लेकिन बर्फबारी नहीं होगी। जनजातीय जिले लाहौल-स्पीति का केलंग प्रदेश में सबसे ठंडा स्थल बना हुआ है।

रविवार को केलंग में न्यूनतम तापमान शून्य से 9.6 डिग्री नीचे दर्ज किया गया। सीजन में दूसरी बार केलंग का तापमान इस स्तर पर पहुंचा है। इससे पहले 17 दिसंबर को यहां पारा शून्य से 12.1 डिग्री नीचे दर्ज हुआ था। इसी तरह किन्नौर जिले के कल्पा में न्यूनतम तापमान आज शून्य से 1.6 डिग्री नीचे रहा। इसके अलावा भुंतर में 1, सुंदरनगर में 1.6, सोलन में 2.7, चम्बा में 2.9, मंडी में 3.1, बिलासपुर में 4, डल्हौजी में 4.7, हमीरपुर में 4.8, कांगड़ा में 5.4, ऊना में 5.6, धर्मशाला में 6.2 और नाहन में 6.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।


और भी पढ़ें :