नए साल पर 1000 शरणार्थियों की भीड़ ने किया 90 जर्मन महिलाओं का यौन उत्पीड़न!

WD| Last Updated: बुधवार, 6 जनवरी 2016 (12:33 IST)
जर्मनी में नववर्ष के उत्सव के समय महिलाओं के साथ यौन उत्पीडऩ, जैसे जघन्य अपराध का सनसनीखेज मामला सामने आया है। जर्मनी के कोलोन शहर की लगभग 90 महिलाओं ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है कि नए साल के जश्न के समय कोलोन रेलवे स्टेशन पर कई पुरुषों ने उनके साथ किए। पुलिस का कहना है कि कई पुरुष जो नशे में थे हो सकता है कि वह सब इस अपराध में शामिल हो।

पुलिस के अनुसार लगभग 1000 शरणार्थियों की भीड़ ने कोलोन रेलवे स्टेशन पर 90 जर्मन महिलाओं का यौन उत्पीड़न किया और 1 महिला ने बलात्कार की शिकायत दर्ज की है। 

शरणार्थियों पर शक : कोलोन के पुलिस प्रमुख वोल्फगेंग अल्बेयर्स ने कहा कि छेड़छाड़ करने वाले अरब या उत्तरी अफ्रीकी जैसे लग रहे थे। उल्लेखनीय है कि इसके पहले भी शरणार्थियों द्वारा जर्मन लड़कियों से छेड़-छाड़ और यौन हमले में कई शरणार्थियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। पुलिस ने इस पूरे घटनाक्रम को नई दिशा में एक अपराध करार दिया है। कानून मंत्री हायको मास ने कहा कि इसके लिए जो भी जिम्मेदार हैं उन्हें कानून के दायरे में लाकर सजा दी जाएगी। चांसलर एंजेला मर्केल ने महिलाओं के साथ हुये यौन उत्पीडऩ पर दुख व्यक्त किया है। 
कई शहरों में हुए यौन हमले : मास ने कहा कि कोलोन रेलवे स्टेशन पर जो कुछ भी हुआ उसे किसी भी हाल में स्वीकार्य नहीं किया जा सकता है। भविष्य में फिर से ऐसा नहीं हो इसको सुनिश्चित करने के लिए कठोर कदम उठाने और दोषियों को हर हाल में सज़ा मिलनी चाहिए। हैम्बर्ग और स्टटगार्ट में भी ऐसी घटनाएं देखने को मिली है। हैम्बर्ग में एक महिला ने दुष्कर्म की भी बात कही है। घटना के बाद शहर के मेयर ने पुलिस के साथ एक उच्चस्तरीय आपात बैठक बुलाई है।
 
एक पुलिसकर्मी ने शहर के एक समाचार वेबसाइट को बताया कि पुलिस ने आठ संदिग्धों को हिरासत में लिया है। हालांकि अधिकारिक रुप से अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि हिरासत में लिए गये संदिग्ध इस घटना में शमिल है या नहीं। नववर्ष की पूर्वसंध्या पर रेलवे स्टेशन के बाहर भारी संख्या में पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई थी फिर भी वह ऐसे हमले को रोकने में विफल रही। 

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :