वर्षा ऋतु पर कविता : सफल हो सुखद भविष्यवाणी



भविष्यवाणी है कि इस बार पर्याप्त होगी वर्षा।
प्रफुल्लित मन ने कहा -'आमीन -आमीन'!
आमीन का अर्थ है 'तथास्तु' 'बस ऐसा ही हो !'
क्योंकि सारी समृद्धि है वर्षा के ही आधीन ।।1।।
ग्रीष्म का घनघोर ताप विकल कर गया सब को ।
आकाश में लाल-लाल थे सूरज के तेवर ।
पर इनसे ही जनित हुआ मानसूनी हवाओं का वरदान,
अब उदार वर्षा रानी देगी झोली भर-भर ।।2।।

हरा भरा होगा वन-प्रान्तर जलाशय सब भर जाएंगे ।
लहलहाते खेतों में किसानों के सपने उतर आएंगे ।।
और इस कृषि निर्भर देश के सुदृढ़ होंगे अक्षर विकास की इबारत के ।
हमारी शुभेच्छाओं के उक्त शब्द 'आमीन' में,
रंग भरे होंगे मानसूनी गहन वर्षा की इनायत के ।।3।।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :