राजनीति पर कविता : क्यों ? क्यों ? क्यों ?

chunav

सत्ता को पा जाने की ही चाह क्यों है ?
राजनीति अपने स्थापित आदर्शों से यों गुमराह क्यों है ?
सर्वशक्तिमान मतदाता इतना निरीह और बेबस क्यों हैं ?
में उछाले गए मुद्दे इतने बेहूदे और बेकस क्यों हैं ?

में सिद्धान्तहीन लोगों की निर्विघ्न चलती मनमानी क्यों है ?
राजनीति की राह सुयोग्य युवाओं के लिए अनजानी क्यों है ?

जनशक्ति अपनी सामर्थ्य से बिलकुल अनजान, ऊंघती, सोती क्यों है ?
राजनीति कुछ हठधर्मियों की बरबस बन गई बपौती क्यों है ?

गुजरात की चुनावी गहमा गहमी से ये ही सब संकेत मिले हैं।
क्या चिन्तनशील मनों को चिन्तित करने वाले नहीं ये सिलसिले हैं ?

एक परिपक्व प्रजातन्त्र में जाति, धर्म, जनेऊ, मंदिर ही क्या मौजूं चर्चा के विषय हैं ?
यह प्रजातन्त्र ऐसे ही चले क्या यही बस हम सबका निर्णय है ?

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :