दीपपर्व कर कविता : ज्योतिर्मय हो दिवाली

Author सुशील कुमार शर्मा|
Widgets Magazine
हम सबकी पावन ज्योतिर्मय हो दिवाली,
सब कड़वाहट पी लें हम हो मन खाली।


 
जो भी कष्ट दिए तुमने मैंने सब माफ किए,
जो भी बातें बुरी लगी हों कर देना दिल से खाली।
 
देश और विश्व कल्याण की बातें हम सब करते हैं,
आस-पड़ोस के रिश्तों में क्यों खींचा करते हम पाली।
 
इस दिवाली पर हम सब मिलकर प्रण करते,
तेरे घर मेरा दीपक हो मेरे घर तेरी हो थाली।
 
प्रेम के दीपक जलें खुशियों के बंदनवार सजें,
विश्वासों की उज्ज्वल ज्योति हम सब ने मन में पाली।
 
(सभी प्रियजनों को दीपावली की मंगल कामनाएं...!)
Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।