Widgets Magazine

हिन्दी कविता : खूब पनप रहा है भ्रष्टाचार...

Author शम्भू नाथ|

 

 
पात्र बेचारे भूखे सोते हैं,
अपात्र डकारें लेते हैं। 
अपने सारे हितैषी को, 
प्रधान भी सुविधा देते हैं।
 
जांच करा के देख सकते हो, 
हर गांव में पाए जाएंगे। 
गरीबी रेखा के नीचे यूं, 
बहुत लोग नहीं आएंगे। 
 
बना है उनका, 
साहब के वही चहेते हैं।
अपने सारे हितैषी को, 
प्रधान भी सुविधा देते हैं।
 
हॉफ सेंचुरी पार नहीं है, 
मिलती वृद्धावस्‍था पेंशन है। 
जो लोग 60 के हो गए, 
उनको दवा की टेंशन है।
 
भ्रष्टाचार खूब पनप रहा है, 
सच्चाई को सब मेटे हैं।
अपने सारे हितैषी को, 
प्रधान भी सुविधा देते हैं। 
 
Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine