कविता : हिन्दी ही पहचान हमारी

Hindi Poems


हम सबकी प्यारी,
लगती सबसे न्यारी।

कश्मीर से कन्याकुमारी,
राष्ट्रभाषा हमारी।
साहित्य की फुलवारी,
सरल-सुबोध पर है भारी।

अंग्रेजी से जंग जारी,
सम्मान की है अधिकारी।

जन-जन की हो दुलारी,

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :