नई कविता : इंसानियत


होती रही
शर्मसार और हम
पत्थरों में ही
को पूजते रहे ।

दिखाने को अपनी
धार्मिक आस्था
जाते रहे - मंदिर, मस्जिद
चर्च और गुरुद्वारे ।

मांगते रहे
पत्थरों में विराजे
इन देवी-देवताओं से
धन-दौलत और खुशियां अपार ।

मिलता भी रहा है
यह सब हमको पर
बहुधा, मन से करते नहीं
कोई ऐसा सद्कार्य
जो निकाले हमें
अपने ही भरम से ।

फंसे रहते हैं सदा ही
अंध विश्वास और
गलत फहमियों के
उस माया जाल में जो करता है
विवश, पूजने को इन
के भगवानों को ।

गलत कहीं से भी नहीं है
यह सब करना,
मगर साथ ही इसके
जरूरी है यह भी कि मानें हम
उन संस्कारों को जो सिखाते हैं -
मानव से मानव का जुड़ना
उन्हें समझना और
सुख-दुख में शामिल होना

जरूरी है यह भी -
दें बच्चों को तालीम ऐसी
कि उनसे कभी न हो
शर्मसार मानवता।

बोएं बीज ऐसे -
जो फलित हों उन आदर्शों में
जो दे गए हैं वे,
जिन्हें पूजते हैं हम सब
बनाकर पत्थर के देवता ।







- देवेन्द्र सोनी

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :