हिन्दी कविता : दीमक


 
पिता की किताबें
जिन्हें लिखा था उन्होंने
रात रात भर जाग कर
 
कल्पना के भावों से
घर की जिम्मेदारी निभाने के साथ
 
कहते हैं की पूजा ऐसे ही होती है
साहित्य का मोह भी होता है
जो लगता है तो अंत तक
साथ नहीं छोड़ता
 
इसलिए कहा भी गया है 
कि शब्द अमर है 
 
पिता का चश्मा, कलम, कुबड़ी
अब रखे हैं उनकी किताबों के संग
लगता है म्यूजियम/लायब्रेरी हो
यादों की 
 
मां मेहमानों को बताती-पढ़ाती
पिता की लिखी किताबें
मैं भी लिखना चाहता हूं
बनना चाहता हूं पिता की तरह
 
मगर भाग दौड़ की जिंदगी में फुर्सत कहां
मेरे ध्यान ना देने से ही 
लगने लगी है पिता की किताबों पर दीमक 
 
साहित्य का आदर/सम्मान करुंगा
तब ही बन पाउंगा
पिता की तरह लेखक 
 
पिता की किताबों के संग मेरी किताबों को
अब बचाना है दीमकों से मुझे

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :