कविता : मनवा मैं नारी हूं क्यों पीर की


ममता भारद्वाज

मनवा मैं नारी हूं क्यों पीर की मारी हूं ?
कुकर्म कर चैन से सोता है नर
क्यों तन मन से हारी हूं मैं ?
मनवा हुआ करती थी, चहल-पहल जिस आंगन की
क्यों उसी से हुई बेगानी हूं मैं ?
जिस आंगन ने पथ पर चलना सिखाया
क्यों वही निरासो से घिर जाती हूं मैं ?
मनवा मैं नारी हूं क्यों पीर की मारी हूं ?
कुकर्म कर चैन से सोता है नर
क्यों तन मन से हारी हूं मै ?

मनवा गुजरते है उसी पहलू से
फिर क्यों वही अत्याचारों से प्रतारित हूं मैं ?
खुलकर जिंदगी जीता है नर
क्यों वही हम पर जमाने की गाली है
मनवा मैं नारी हूं क्यों पीर की मारी हूं ?
कुकर्म कर चैन से सोता है नर
क्यों तन मन से हारी हूं मैं ?
मनवा जिससे जूरी है जिंदगी का हर ख्वाब अपना
क्यों वही हर जख्म का शिकार बन जाती हूं मैं ?

अपना भी अधिकार है हर कदम पर चलने की
फिर क्यों वही रीत रिवाजों की मारी हूं मैं ?
मनवा मैं नारी हूं क्यों पीर की मारी हूं ?
गुनाह करता है कोई क्यों जंजीरों की भागीदारी हूं मैं ?
जहां कुकर्म कर चैन से सोता है नर
क्यों वही तन मन से हारी हूं मैं ?

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :