उपन्यास समीक्षा : नौ मुलाकातें


विपरीत ध्रुवों पर खड़े हैं और मिलना चाहते हैं। मैंने मन ही मन जोड़ा। इति से मेरी यह नौवीं  मुलाकात होगी। 40 वर्ष की अवधि में नौवीं मुलाकात। इससे पहले इति से जितनी मुलाकातें  हुईं, अति भावुकता में हुई थीं। छोटी-छोटी मुलाकातें, लेकिन हर मुलाकात मेरे लिए खास थी  और मेरी जिंदगी में हलचल मचाकर गई थी। 
 
इस तरह की रोमांटिक शुरुआत के साथ यह पाठकों को शुरू से ही बांध देता है।  लेखक बृजमोहन वैसे तो सालों से विभिन्न साहित्यिक पत्र-पत्रिकाओं में लगातार लिखते रहे हैं,  पर यह उपन्यास उनके लिए खास है, क्योंकि उम्र के इस पड़ाव (65 वर्ष) पर आकर लोग  रिटायरमेंट की सोचते है वहीं उन्होंने प्रेमकथा को एक नया आयाम दिया है। 
 
इस उपन्यास की सबसे बड़ी यूएसपी है उम्र के विभिन्न पड़ावों पर प्रेमी-प्रेमिका के बीच संवाद  को उसी उम्र के अनुसार दर्शाना और लेखक ने यह काम बखूबी किया है। दूसरी बात सारी  कहानी मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के बीच घूमती रहती है जिससे कि एमपी और छत्तीसगढ़  वाले पाठक इससे और जुड़ाव महसूस कर पाते हैं। 
 
उपन्यास का नायक विकेस और नायिका इति दो विपरीत ध्रुवों के प्रतिनिधि हैं। नायक जहां  थोड़ी बड़ी उम्र वाले कस्बाई संस्कृति के दबे-कुचले, शर्मीले और संकोची स्वभाव का है तो वहीं  नायिका महानगरों की टीनएज में कदम रखती नवयौवना बहिर्मुखी और खुले दिमाग वाली  लड़की है। दोनों की पहली मुलाकात एक शादी के अवसर पर होती है।
 
नायक पहली ही मुलाकात में उस बेपरवाह और बिंदास लड़की को दिल दे बैठता है। लेकिन  उपन्यास में कई उतार-चढ़ाव आते हैं और अंत तक पाठकों की रुचि बनी रहती है। साथ ही साथ  अन्य पात्र भी खूबसूरती से प्रस्तुत किए गए हैं। उपन्यास में अंत में क्या होगा उसको यहां  बताने से रोमांच खत्म हो जाएगा। 
 
पिछले कुछ वर्षों में हिन्दी में इस तरह का उपन्यास नहीं आया है। इसका सधा हुआ कथानक,  सरल-स्पष्ट भाषा, कैरेक्टर से जुड़ाव और मध्यप्रदेश की पृष्ठभूमि इसे बेहद उम्दा उपन्यास  बनाती है। 
 
पुस्तक - 'नौ मुलाकातें' (उपन्यास) 
लेखक - बृजमोहन समीक्षक - ब्रजेश सावले 

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

हिन्दी कविता : देह हूं मैं ...

हिन्दी कविता : देह हूं मैं ...
देह हूं मैं प्राणों से भरी , अहसासों से भरी देह हूं मैं जब छूते हो मुझे मेरी ...

मन की अभिव्यक्ति से मिलती है खुशी

मन की अभिव्यक्ति से मिलती है खुशी
वर्षों बाद वो दोनों सखियां मिलीं। मन में भावनाओं का ज्वार। आंखें ख़ुशी के आंसुओं से सिक्त। ...

प्रेम गीत : मुझको दीवाना कह लो

प्रेम गीत : मुझको दीवाना कह लो
तुम्हे प्यार नहीं तो क्या मुझको दीवाना कह लो। उम्मीदे वफ़ा नहीं तो क्या, मुझको दीवाना कह ...

बचा जा सकता है थायराइड से, यहां जानिए कैसे

बचा जा सकता है थायराइड से, यहां जानिए कैसे
योग के जरिए भी थायराइड से बचा जा सकता है। खासकर कपालभाती करने से थायराइड की समस्या से ...

तंत्र की देवी है मां बगलामुखी, हर आपदा से बचाता है उनका ...

तंत्र की देवी है मां बगलामुखी, हर आपदा से बचाता है उनका मंत्र
मां बगलामुखी यंत्र चमत्कारी सफलता तथा सभी प्रकार की उन्नति के लिए सर्वश्रेष्ठ माना गया ...

बच्चों को दीजिए उनका आकाश

बच्चों को दीजिए उनका आकाश
हम प्रायः अपने बच्चों को उसके भाई-बहनों या मित्रों का अनुकरण करने को कहते हैं। जो हमारी ...

एक बार जरूर पढ़ें खूबानी के 5 खास गुण

एक बार जरूर पढ़ें खूबानी के 5 खास गुण
आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि 5 खूबानी से उतनी ही कैलोरी मिलती हैं, जितनी कि एक सेब से...

क्या आप कीटो डाइट के शौकीन हैं? इसके 5 नुकसान चौंका देंगे ...

क्या आप कीटो डाइट के शौकीन हैं? इसके 5 नुकसान चौंका देंगे आपको
कीटो डाइट का एक दुष्परिणाम यह है कि इसके साथ आपको पर्याप्त फाइबर और पोषक तत्व नहीं मिल ...

पृथ्वी दिवस पर कविता : दे दो उसे जीवनदान

पृथ्वी दिवस पर कविता : दे दो उसे जीवनदान
घुट रहा है दम, निकल रहे हैं प्राण। कोई सुन ले तो, दे दो उसे जीवनदान। सूख रहे हैं हलक, ...

बस अपनाएं ये 8 सरल टिप्स और स्वादिष्ट काजू करी तैयार

बस अपनाएं ये 8 सरल टिप्स और स्वादिष्ट काजू करी तैयार
सबसे पहले काजू को सादे पानी में उबाल लें। काजू को उबालते वक्त उसमें थोड़ा-सा नमक मिला दें।