Widgets Magazine

पुस्तक समीक्षा : केदारनाथ सिंह चकिया से दिल्ली

WD|
सदियों के संस्कार की अनमोल विरासत  
​‘चकिया से दिल्ली’,  कवि केदारनाथ सिंह के बारे में उनके कुछ समकालीन लेखकों और कुछ आत्मीय जनों के द्वारा लिखे गए लेखों और टिप्पणियों का संग्रह है। चकिया अर्थात् उनका जन्मस्थान और दिल्ली अर्थात वह महानगर जहां आज वे रहते हैं। ठेठ ग्रामांचल से महानगर की ओर यह स्थानांतरण ऐसा है, जिसे उनके  पूरे विकासक्रम में देखा जा सकता है।

उनके व्यक्तित्व की सादगी उनकी कविता की सबसे बड़ी शक्ति है। उनकी सादगी के कारण जीवन की जटिलताएं उनके सम्मुख अपनी समूची वास्तविकता में अर्थवान हो उठती हैं। इसलिए उनकी कविता में सुदीर्घ भारतीय जीवन बोध अपनी समकालीन विडंबनाओं के बहुस्तरीय वेधक आवेग के साथ विश्वसनीय स्वरूप में जीवंत हो उठता है। जीवन के प्रति गहरे राग बोध की अक्षय पूंजी उनके काव्य ऐश्वर्य को दुर्निवार आकर्षण से संपन्न बनाती है। यह राग बोध उन्हें अत्यंत सूक्ष्म और सुकुमार संवेदना से उपलब्ध हुआ है। यह सब उन्हें अनायास ग्राम्य संस्कृति से अपनी जातीय विरासत के रूप में हस्तगत हुआ है। शायद यही वजह है कि आज भी अपने गांव के प्रति उनका अनुराग, दुनिया की तमाम समृद्ध सभ्यताओं के निकट परख और पहचान के बाद भी तनिक भी कम नहीं हुआ है। वे बराबर गांव आने और अपने गांव में होने के अवसरों की तलाश भी करते हैं और आविष्कार भी करते हैं।
 
वे इस महादेश के छोटे से गांव में आकर ऐसे विश्वस्त और विश्रब्ध हो जाते हैं, जैसे कोई शिशु अपनी मां की गोद में जाकर हो जाता है। अपने गांव की गलियों में, सीवानों में चलते हुए उन्हें अपने पांव के नीचे की जमीन का कण-कण जन्मों के परिचय की आत्मीयता से रोमांचित कर देता है। गंगा और घाघरा के तट उनके  प्राणों को अपने बुलावे से उन्मथित करते रहते हैं। तटों के किनारे बिखरी हुई अपार बालुकाराशि उन्हें प्रणय-कलह की, संघर्ष-सन्धि की, जय-पराजय की अपनी असमाप्त कहानी कहते अपार तोष का रस पाती है। यह अद्भुत आत्मीयता अचानक और आकस्मिक नहीं, सदियों के संस्कार की अनमोल विरासत है।
 
 
पुस्तक : केदारनाथ सिंह चकिया से दिल्ली 
संपादक : कामेश्वर प्रसाद सिंह 
प्रकाशक : वाणी प्रकाशन 
कीमत : 495 

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

गर्भावस्था में स्ट्रेच मार्क्स से बचने के 4 आसान तरीके...

गर्भावस्था में स्ट्रेच मार्क्स से बचने के 4 आसान तरीके...
महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान स्ट्रेच मार्क्स होना एक आम समस्या है, क्योंकि इस दौरान ...

लू से हो सकती है मौत, पढ़ें 10 काम की बातें

लू से हो सकती है मौत, पढ़ें 10 काम की बातें
गर्म हवाएं, जो लू कहलाती हैं, आपके लिए बेहद खतरनाक हो सकती हैं। ये आपके शरीर के तापमान को ...

8 रसीले ज्यूस, सेहत को रखे चुस्त

8 रसीले ज्यूस, सेहत को रखे चुस्त
केवल पानी ही प्यास बुझाने के लिए काफी नहीं होता। शरीर में नमी अधिक देर तक बनी रहे इसके ...

गर्मियों में रखें अपने क्यूट 'पपी' का ख्याल

गर्मियों में रखें अपने क्यूट 'पपी' का ख्याल
जानवरों के लिए गर्मियां बहुत तकलीफदेह होती हैं इसलिए कुछ आसान उपाय करके हम अपने पालतू ...

यह 6 रसीले फल गर्मियों में देंगे सेहत और सुंदरता

यह 6 रसीले फल गर्मियों में देंगे सेहत और सुंदरता
जानिए गर्मी के मौसम में आने वाले उन फलों को, जो गर्मी में रखते हैं हमारा ध्यान -

खूबसूरत बालों के लिए जरूरी है यह 10 पोषक आहार

खूबसूरत बालों के लिए जरूरी है यह 10 पोषक आहार
शरीर में बालों से संबंधित पोषक तत्वों की कमी से ही बाल कमजोर होकर झड़ने लगते हैं और जब तक ...

मांग में सिंदूर क्यों सजाती हैं विवाहिता?

मांग में सिंदूर क्यों सजाती हैं विवाहिता?
मांग में सिंदूर सजाना एक वैवाहिक संस्कार है। सौभाग्यवती स्त्रियां मांग में जिस स्थान पर ...

वास्तु : खुशियों के लिए जरूरी हैं यह 10 काम की बातें

वास्तु : खुशियों के लिए जरूरी हैं यह 10 काम की बातें
रोजमर्रा में हम ऐसी गलतियां करते हैं जो वास्तु के अनुसार सही नहीं होती। आइए जानते हैं कुछ ...

नजर और बाधा से बचाएगा मां बगलामुखी का एक मंत्र, करें ये ...

नजर और बाधा से बचाएगा मां बगलामुखी का एक मंत्र, करें ये उपाय...
बगलामुखी साधना दस महाविद्याओं में से एक है। मां बगलामुखी की साधना बाहरी नजर तथा शत्रु ...

मां बगलामुखी की साधना में रखें ये सावधानियां, पढ़ें दिव्य ...

मां बगलामुखी की साधना में रखें ये सावधानियां, पढ़ें दिव्य मंत्र और विधि
सतयुग में एक समय भीषण तूफान उठा। इसके परिणामों से चिंतित हो भगवान विष्णु ने तप करने की ...