रेशम के कीड़ों का बुना पर्दा, दूर करेगा बहरापन


मेलबर्न, 29 मई :भाषा: सुनने की क्षमता लौटाने और इसमें सुधार करने के लिए वैज्ञानिकों ने पहली बार के कीड़ों का इस्तेमाल किया है।
 
क्रॉनिक मिडिल ईयर डिसीज और कान का पर्दा फटने जैसी समस्याओं से दुनियाभर में लाखों लोग पीड़ित हैं। इनसे पीड़ित लोगों की सुनने की क्षमता तो प्रभावित होती ही है, संक्रमण जैसी कई जटिलताएं भी हो जाती हैं जिनसे हर वर्ष 30,000 लोगों की मौत हो जाती है।
 
अब वैज्ञानिक कान का पर्दा फटने जैसी तकलीफदेह समस्या को दूर करने और सुनने की क्षमता लौटाने की दिशा में तेजी से काम कर रहे हैं। इसके लिए उन्होंने विज्ञान और रेशम के कीड़ों की मदद से एक छोटा सा उपकरण ईजाद किया है जिसका नाम है क्लियरड्रम। यह दिखने में और आकार में कॉन्टैक्ट लैंस की तरह है।
 
मार्कस एटलस के नेतृत्व में ईयर साइंस इंस्टिट्यूट ऑस्ट्रेलिया की टीम ने ऐसा इंप्लांट बनाया है जिस पर मरीज की अपनी कोशिकाएं विकसित हो सकती हैं। इससे कान के पर्दे में सुधार आ जाता है।
 
कई वषरें के परीक्षण के बाद इंप्लांट ने व्यक्ति के कान के असली पर्दे के मुकाबले और बेहतर प्रदर्शन करने की क्षमता प्रदर्शित की है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :