पढ़े-लिखे लोग भी एंटीबायोटिक दवाओं के खतरों से बेखबर

डॉ वैशाली लावेकर

एक ताजा सर्वेक्षण से पता चला है कि न केवल अशिक्षित, बल्कि शिक्षित लोगों को भी एंटीबायोटिक दवाओं के सही उपयोग और एंटीबायोटिक प्रतिरोध के खतरों के बारे में पता नहीं है।

पुणे स्थित नेशनल केमिकल लेबोरेटरी के वैज्ञानिकों ने यह सर्वेक्षण किया है, जिसमें समाज के विभिन्न वर्गों के 504 लोगों को शामिल किया गया था। लगभग आधे (47 प्रतिशत) लोगों को ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) दवाओं और एंटीबायोटिक दवाओं के बीच अंतर के बारे में पता नहीं था। ओटीसी दवाएं किसी डॉक्टर द्वारा पर्चे पर लिखे निर्देशों के बिना सीधे उपभोक्ता को बेची जाने वाली दवाओं को कहते हैं।
अध्ययन में शामिल एक चौथाई प्रतिभागियों का मानना है कि दवा की खुराक छूट जाने से एंटीबायोटिक प्रतिरोध में कोई फर्क नहीं पड़ता।

इसी तरह 10 प्रतिशत लोगों ने यह स्वीकार किया कि वे डॉक्टर से परामर्श लिए बिना खुद ही दवा लेते हैं। शोध पत्रिका करंट साइंस में प्रकाशित इस सर्वेक्षण के नतीजों के मुताबिक, पांच में से एक ने पर्चे के बिना दवाएं खरीदीं या उचित चिकित्सा परीक्षा के बिना डॉक्टर को बुलाकर एंटीबायोटिक कोर्स शुरू किया।
सर्वेक्षण में शामिल पोस्ट ग्रेजुएट लोगों में से आधे से ज्यादा यह नहीं जानते थे कि दवा स्ट्रिप्स पर लाल रेखा क्या संकेत करती है। उन्हें इस बात की जानकारी नहीं थी कि दवा स्ट्रिप्स पर लाल रेखा होने का तात्पर्य है कि उस दवा को डॉक्टर के परामर्श के बिना नहीं उपयोग करना चाहिए। उन्हें यह भी पता नहीं था कि ऐसी दवाओं को ओवर-द-काउंटर बिक्री की अनुमति नहीं है। कम शिक्षित लोगों की स्थिति इस मामले में अधिक खराब थी। स्नातक कर रहे 71 प्रतिशत और 58.5 प्रतिशत स्नातक लोग दवा स्ट्रिप्स पर ‘लाल रेखा’ के बारे में अनजान थे।

अशिक्षित लोगों में से किसी को भी दवा स्ट्रिप पर लाल रेखा के महत्व के बारे में पता नहीं था और न ही उन्हें बैक्टिरिया से होने वाले संक्रमण में एंटी-बायोटिक दवाओं की भूमिका के बारे में ही जानकारी थी। ओटीसी तथा एंटीबाटोटिक में अंतर कर पाने में भी वे असमर्थ थे। एंटीबायोटिक दवाओं की प्रतिरोधक क्षमता के बारे में भी उन्हें जानकारी नहीं थी। वायरल एवं बैक्टिरियल संक्रमण में अंतर के बारे में अशिक्षित लोगों को नहीं पता था और न ही वे यह जानते थे कि एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग वायरल संक्रमण के उपचार में नहीं किया जाता है।

अत्यधिक एंटीबायोटिक दवाओं के उपयोग और डॉक्टर द्वारा बतायी गई दवा का सेवन नियमित न करने से रोगाणुओं में जैव प्रतिरोधी दवाओं के प्रति प्रतिरोधक क्षमता विकसित होने लगती है और उन पर दवा का असर कम हो जाता है। हालांकि, ज्यादातर लोग थोड़ा बेहतर स्वास्थ्य होने पर नियमित दवा लेना छोड़ देते हैं या फिर पूरी तरह बंद कर देते हैं, जो सेहत के लिए ठीक नहीं है।


अध्ययनकर्ताओं ने पाया है कि शिक्षित लोग एंटीबायोटिक दवाओं का सबसे अधिक उपयोग करते हैं। खुद दवा लेने की प्रवृत्ति भी इस वर्ग के लोगों में अधिक देखी गई है।

अध्ययनकर्ताओं में शामिल डॉ रघुनाथन ने इंडिया साइंस वायर को बताया कि “सर्वेक्षण के नतीजे स्पष्ट करते हैं लोगों को एंटीबायोटिक दवाओं, उसके निपटारे और बिना सोचे-समझे उन दवाओं के उपयोग के बारे में शिक्षित किया जाना जरूरी है।” शैक्षणिक और जनजागरूकता कार्यक्रमों के प्रसार के साथ-साथ एंटीबायोटिक नियंत्रण नीतियों को बेहतर ढंग से लागू करने की आवश्यकता है, जो चिकित्सकीय पर्चे के बिना दवाओं की उपलब्धता को प्रतिबंधित करने में मददगार हो सकती हैं।” अध्ययनकर्ताओं में अनु रघुनाथन केअलावा डॉ दीपनविता बनर्जी भी शामिल थी।

(इंडिया साइंस वायर)

भाषांतरण : उमाशंकर मिश्र


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

ईयर फोन बन रहा है मौत का कारण, पढ़ें 10 जरूरी बातें

ईयर फोन बन रहा है मौत का कारण, पढ़ें 10 जरूरी बातें
आए दिन रास्ते में आपको कान में ईयरफोन लगाए लोग मिल जाएंगे जिनकी वजह से प्रतिदिन हादसे हो ...

शहद और लहसन साथ में लेने के यह 5 फायदे आपको चौंका देंगे, ...

शहद और लहसन साथ में लेने के यह 5 फायदे आपको चौंका देंगे, जरूर पढ़ें
शहद और लहसन, दोनों के सेहत से जुड़े 5 फायदे... लेकिन पहले जानिए कि कैसे करें लहसन और शहद ...

घी जरूर खाएं,नहीं करता है नुकसान, जानिए इसके बेमिसाल फायदे

घी जरूर खाएं,नहीं करता है नुकसान, जानिए इसके बेमिसाल फायदे
घी पर हुए शोध बताते हैं कि इससे रक्त और आंतों में मौजूद कोलेस्ट्रॉल कम होता है। क्या वाकई ...

एक साथ लीजिए दूध और गुड़, जानिए इस कॉंबिनेशन में कितने हैं ...

एक साथ लीजिए दूध और गुड़, जानिए इस कॉंबिनेशन में कितने हैं गुण
अगर आप दूध के साथ चीनी का इस्तेमाल करते है तो इसकी जगह आप गुड़ का इस्तेमाल करें। ऐसा करने ...

शादीशुदा लोगों को कम होता है हृदय रोग का खतरा

शादीशुदा लोगों को कम होता है हृदय रोग का खतरा
लंदन। एक अध्ययन में दावा किया गया है कि शादी से लोगों को दिल की बीमारियों और स्ट्रोक से ...

योगा दिवस पर हिन्दी गीत : सेहत का शुभ संयोग हो

योगा दिवस पर हिन्दी गीत : सेहत का शुभ संयोग हो
सेहत का शुभ संयोग हो प्रकृति का सहयोग हो स्वस्थ सारे लोग हो.... योग हो... योग हो

नियमित योग से पाएं ये 6 बेहतरीन लाभ

नियमित योग से पाएं ये 6 बेहतरीन लाभ
21 जून की तारीख पूरे विशव में 'अंतरराष्ट्रीय योग दिवस' के नाम से दर्ज हो गई है। योग हमेशा ...

योग दिवस पर कविता : योग से सुंदर बनें

योग दिवस पर कविता :  योग से सुंदर बनें
योग से मन स्वच्छ हो योग से तन स्वस्थ हो योग पर ना धन खर्च हो योग करें हम योग करें

ज्यादा कॉफी पीने से बच्चों को होते हैं ये 5 नुकसान

ज्यादा कॉफी पीने से बच्चों को होते हैं ये 5 नुकसान
कॉफी पीना आजकल हर उम्र के बच्चों की पसंद बन गया है। कई बच्चे ऐसे हैं, जो चाय व दूध के ...

लाल किताब में दिए हैं 12 राशि के अनोखे उपाय, पढ़ें क्या है ...

लाल किताब में दिए हैं 12 राशि के अनोखे उपाय, पढ़ें क्या है आपकी राशि का उपाय
किसी से कोई वस्तु मुफ्त में न लें। लाल रंग का रूमाल हमेशा प्रयोग करें।लाल किताब के ...