जानिए, आखिर क्यों इंटेलीजेंट लोग रहते हैं कम खुश (5 वजहें)

intelligence and happiness
अगर आप सोचते हैं कि बुद्धिमान लोग तो हमेशा खुश रहते होंगे, तो ऐसा कतई जरूरी नहीं है। ज्यादा बुद्धिमानी भी कई बार खुशियों में बाधा बन सकती है, आखिर ये कैसे संभव है? तो आइए हम आपको बताते हैं -
खुश रहना, इंसान के और जीवन एवं आसपास की परिस्थितियों पर निर्भर करता है। इसके अलावा खुश रहने या नहीं रहने के विभिन्न कारण हो सकते हैं, लेकिन इंटेलजेंसी भी खुश न रह पाने का एक कारण है। जानिए वह 5 कारण, जिनके कारण लोग ज्यादातर खुश नहीं रह पाते -


1 इंटेली‍जेंट लोग किसी भी बात या विचार या परिस्थिति का अधिक विश्लेषण करते हैं, जिसके कारण वे उसके मूल भाव को कम ही महसूस कर पाते हैं, हम यह कह सकते हैं कि वे दिल की जगह दिमाग से ज्यादा काम लेते हैं।

2 अधिक सोचने के कारण दिमाग अवरूद्ध होता है, खास तौर से सारे दिमागी गणित लगाने के बावजूद आप अंतत: फस्ट्रेशन पर ही पहुंचते हैं और आंतरिक खुशी महसूस नहीं कर पाते।
3 अर्थात किसी भी चीज के लिए उनका सोचने का पैमाना बहुत उच्च होता है, जो कई बार असल जिंदगी से अलग होता है। इसके कारण उपलब्धि, रिश्ते और अन्य चीजों में असंतुष्ट‍ि बनी रहती है जो खुशी को काफी हद तक प्रभावित करती है।

4 वे खुद पर कठोर होते हैं, और कई बार अपने अतीत की गलतियों को दोषी भावना के साथ अपने अंदर रखते हैं जिसके कारण मन में नकारात्मक भावना पैदा होती है और खुशी को प्रभावित करती है।
5 इनमें अंर्तरवैयक्तिक संचार अर्थात खुद से कम्यूनिकेशन करना व समझना जैसी चीजें कम ही देखने को मिलती है जिसके कारण कई इंटेलीजेंट लोग अकेलापन, गलतफहमी महसूस करते हैं और कई बार वे मनोवैज्ञानिक समस्याओं का सामना करते देखे गए हैं।


और भी पढ़ें :