अगर आप पीठ के बल सोते हैं, तो इन 5 सेहत समस्याओं से बच सकते हैं

health benefits of sleeping on back
वैसे तो सभी के सोने का अपना-अपना तरीका होता है, किसी को एक पोजीशन में नींद आती है तो किसी अन्य व्यक्ति को दूसरी पोजीशन में नींद आ पाती है। लेकिन हम आपको बता रहे हैं कि अगर आप पीठ के बल सोते है तो ये पोजीशन के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकती है।

आइए, जानते हैं कि पीठ के बल सोने से किन समस्याओं से बचा जा सकता है -

1 से बचाव - पीठ के बल सोना कमर को आधार देता है, जिसके कारण कमर दर्द नहीं होता और अगर होता भी है तो उसमें काफी हद तक राहत मिलती है।

2 गर्दन के दर्द से राहत - चूंकि पीठ के बल लेटने पर आपकी गर्दन को भी सही तरीके से तकिये का सपोर्ट मिल पाता है, अत: गर्दन के दर्द में लाभ होता है। जबकि गलत तरीके से सोने पर गर्दन को सही सपोर्ट नहीं मिल पाता।

3 अम्लीय रिसाव में कमी - यह सोने की वह अवस्था है जिसमें आपके पेट की स्थ‍िति सही होती है, जिसके कारण पेट में अम्लीय रिसाव नहीं होता या उसमें कमी आती है।

4 झुर्रिया कम होती हैं - जब आप पीठ के बल सोने के बजाए गलत तरीके से सोते हैं, तो आपका चेहरा भी उसके अनुरूप अवस्था में होता है, और उस पर दबाव एवं झुर्रियां आती हैं। खास तौर से लंबे समय तक ऐसा होने पर झुर्रिया बढ़ सकती है।

5 शरीर सुडौल रहता है - जब आप लंबे समय तक अपने शरीर को बेढंग और गलत अवस्था में रखते हैं तो शरीर का बेडोल होना स्वभाविक है। इसका एक कारण यह भी है कि जब आप सोते हैं तब आपका शरीर विकास करता है।


और भी पढ़ें :