बेहतरीन औषधि है बेलपत्र, ये 7 सेहत लाभ जानने के बाद आपको भी यकीन हो जाएगा


जिसे का प्रयोग खास तौर से भगवान शिव के पूजन अभिषेक में किया जाता है। लेकिन अगर इसे औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाए तो यह आपकी कई समस्याओं का बेहतरीन इलाज साबित हो सकता है। यकीन नहीं आता तो बेलपत्र से होने वाले सेहत के इन 5 फायदों को जरूर जान लीजिए...


1 बुखार होने पर बेल की पत्तियों के काढ़े का सेवन लाभप्रद है। यदि मधुमक्खी, बर्र अथवा ततैया के काटने पर जलन होती है। ऐसी स्थिति में काटे गए स्थान पर लगाने से राहत मिलती है।

2
हृदय रोगियों के लिए भी बेलपत्र का प्रयोग बेहद फायदेमंद है। बेलपत्र का काढ़ा बनाकर पीने से हृदय मजबूत होता है और हार्ट अटैक का खतरा कम होता है। श्वास रोगियों के लिए भी यह अमृत के समान है। इन पत्तियों का रस पीने से श्वास रोग में काफी लाभ होता है।

3
शरीर में गर्मी बढ़ने पर या मुंह में गर्मी के कारण यदि छाले हो जाएं, तो बेल की पत्तियों को मुंह में रखकर चबाने से लाभ मिलता है और छाले समाप्त हो जाते हैं।

4

बवासीर आजकल एक आम बीमारी हो गई है। खूनी बवासीर तो बहुत ही तकलीफ देने वाला रोग है। बेल की जड़ का गूदा पीसकर बराबर मात्रा में मिश्री मिलाकर उसका चूर्ण बना लें। इस चूर्ण को सुबह शाम ठंडे पानी के साथ लें। यदि पीड़ा अधिक है तो दिन में तीन बार लें। इससे बवासीर में फौरन लाभ मिलता है।

5यदि किसी कारण से बेल की जड़ उपलब्ध न हो सके तो कच्चे बेलफल का गूदा, सौंफ और सौंठ मिलाकर उसका काढ़ा बना कर सेवन करना भी लाभदायक होगा। यह प्रयोग एक सप्ताह तक करें।

6
बरसात में अक्सर सर्दी, जुकाम और बुखार की समस्याएं अधिक होती हैं। ऐसे में बेलपत्र के रस में शहद मिलाकर पीना फायदेमंद है। वहीं विषम ज्वर हो जाने पर इसके पेस्ट की गोलियां बनाकर गुड़ के साथ खाई जाती हैं।

7
पेट या आंतों में कीड़े होना या फिर बच्चें में दस्त लगने की समस्या हो, बेलपत्र का रस पिलाने से काफी फायदा होता है और यह समस्याएं समाप्त हो जाती हैं।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ
जीवन की ढलने लगी सांझ उमर घट गई डगर कट गई जीवन की ढलने लगी सांझ।

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी ...

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी मत देना
मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊँचाई कभी मत देना गैरों को गले न लगा सकूँ इतनी रुखाई कभी मत ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक पटल, बहुत याद आएंगे अटल
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वह ना केवल एक ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते हैं सोच...
अटल बिहारी वाजपेयी ने शिक्षा, भाषा और साहित्य पर हमेशा जोर दिया। उनके अनुसार शिक्षा और ...

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता : जीवन को शत-शत आहुति में, जलना ...

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता : जीवन को शत-शत आहुति में, जलना होगा, गलना होगा
बाधाएं आती हैं आएं घिरें प्रलय की घोर घटाएं, पांवों के नीचे अंगारे, सिर पर बरसें यदि ...

ईद-उल-अजहा क्यों कहते हैं ईदे कुरबां, जानिए...

ईद-उल-अजहा क्यों कहते हैं ईदे कुरबां, जानिए...
ईद-उल-अजहा मुस्लिम भाइयों का एक महत्वपूर्ण त्योहार है। कुरबानी से जुड़ी होने की वजह से इसे ...

ईद-उल-अजहा की कुर्बानी को लेकर शरीयत में दी गई है ये सलाह

ईद-उल-अजहा की कुर्बानी को लेकर शरीयत में दी गई है ये सलाह
मुसलमानों के लिए अल्लाह ने खुशी मनाने के लिए साल में मुकर्रर दो ईद में से एक ईदुल-अजहा

मुंह में बार-बार छाले होने से परेशान है, अब नहीं सहा जाता ...

मुंह में बार-बार छाले होने से परेशान है, अब नहीं सहा जाता दर्द... तो छालों को गायब करने के ये 12 तरीके जान लीजिए
मुंह में बार-बार छाले होने से परेशान है, अब नहीं सहा जाता दर्द तो छालों को गायब करने के ...

रक्षाबंधन पर कैसे हो सकता है पंचक दोष निवारण, जानें उपाय

रक्षाबंधन पर कैसे हो सकता है पंचक दोष निवारण, जानें उपाय ...
इस बार रक्षाबंधन का पर्व प्रतिवर्षानुसार श्रावण शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि दिनांक 26 ...

अटलजी के निधन पर अमेरिका में भारतीय समुदाय शोकाकुल

अटलजी के निधन पर अमेरिका में भारतीय समुदाय शोकाकुल
न्यूयॉर्क। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर यहां भारतवंशी समुदाय के लोगों ...