हिन्दू नववर्ष : नवसंवत्सर पर दोहे...




'साधारण' के नाम का, नवसंवत्सर है वर्ष,
चैत्र शुक्ल की प्रतिपदा, नूतन-नवल-सहर्ष।
राजा मंगल जानिए, मंत्री गुरु का साल,
समरसता जग में बढ़े, होंगे नहीं बवाल।

विश्व गुरु बनने चला भारत, फिर एक बार,
सुख-समृद्धि आगे बढ़े, हो सबका बेड़ा पार।

प्रगतिशील हर क्षेत्र में, भारत ज्ञान-सुजान,
डंका पिटेगा विश्व में, मिले अमित सम्मान।

मंगल को हनु जयंती, मंगल नवमी राम,
मंगल संवत्सर शुरू, मंगल हों सब काम।



वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine



और भी पढ़ें :