28 नवंबर : गिविंग ट्यूसडे, आज है कुछ देने का दिन...

giving tuesday

आज का मंगलवार सामान्य मंगलवार नहीं हैं। आज का मंगलवार है giving tuesday। में थैंक्स गिविंग डे के बाद मनाया जाने वाला यह मंगलवार गिविंग ट्यूसडे कहलाता है और सारी दुनिया में गिविंग डे के नाम से मनाया जाता है।

इस दिन को मनाने का कारण है कि एक महीने बाद यह वर्ष खत्म होने वाला है और पूरे साल में हमें बहुत कुछ अच्छा मिला है या हमने बहुत कुछ सीखा है। तो अब इस वर्ष के बिदा होने से पहले, हमें अपनी चीजों को दूसरों के साथ शेयर करना चाहिए। आज के दिन लोग डोनेशन देते हैं, चैरिटी करते हैं, गिफ्ट्स बांटते हैं। अपनी क्षमता के अनुसार जिससे जो बन पड़े, लोग करते हैं। आप कैसे गिविंग ट्यूसडे मना सकते हैं यह बताने से पहले आइए जानते हैं रोचक और दिलचस्प कहानी....

एक बार की बात है। एक बहुत अमीर और लालची व्यापारी था। उसने एक एक्सपर्ट को नौकरी पर नियुक्त किया। जो उसकी संपत्ति को अधिक से अधिक बढ़ाने में सहायता कर सके और धन बढ़ाने की तरकीबें बता सके। लालची व्यापारी को बहुत सारा पैसा चाहिए था जिसे वह तिजोरी में लॉक करके बस रखना चाहता था।

एक्सपर्ट ने कई महीनों तक तरकीब सोची। फिर वह व्यापारी को ज़्यादा फायदा पहुंचाने की तरकीब बताने आया। व्यापारी को कुछ दिनों के लिए किसी काम से बाहर जाना था तो व्यापारी ने उस एक्सपर्ट को कहा कि मैं तुम्हारी तनख़्वाह डबल कर दूंगा अगर तुम कुछ दिनों के लिए मेरा व्यापार सम्हाल लो। वह खुशी-खुशी मान गया। व्यापारी के जाते ही उसने अपनी युक्ति के हिसाब से व्यापारी की सारी धन- दौलत, उस इलाके के सभी लोगों में बांट दी।

कुछ महीनों बाद जब व्यापारी वापस लौटा तो बहुत गुस्सा और दुखी हुआ क्योंकि अब उसके पास कुछ नहीं बचा था। वह हताश, निराश हो कर अपने इलाके से गुज़र रहा था। तभी उसे ऐसे जाते देख सभी लोग उसकी मदद करने उसके पास आ गए। वे सभी लोग उसे पूजने लगे थे। उसके दिए दान से कृतज्ञ, वे लोग आपस में उस व्यापारी की मदद करने के लिए झगड़ने लगे। हर कोई उसे अपने घर ले जाना चाहता था। इतना मान-सम्मान पा कर व्यापारी बहुत खुश हुआ और कुछ समय बाद उसका व्यापार भी पहले से कई गुना बढ़ गया। तब व्यापारी को पॉवर ऑफ़ गीविंग समझ आ गया।

तो आज 'गिविंग ट्यूसडे' के दिन, आप भी किसी से कुछ शेयर कीजिए। आप चाहे तो अपने पुराने कपड़े, पुरानी बुक्स, स्वेटर, बैग, बर्तन या कोई अन्य सामान किसी जरूरतमंद को दे सकते हैं। कुछ ज्यादा नहीं तो आप किसी अपने के साथ समय व्यतीत कर, अपने बेशकीमती समय का तोहफा भी किसी को दे सकते हैं। वैसे तो किसी जरूरतमंद को कुछ देने के लिए किसी खास दिन की जरूरत नहीं है लेकिन अगर आप पूरे साल किसी को कुछ नहीं दे पाएं हैं तो आज का दिन आपको याद दिलाता है कि आप किसी से कुछ शेयर करें।

प्रस्तुति : नम्रता जायसवाल


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :