लोग साथ आते गए, कारवां बनता गया

अमेठी से दीपक असीम

PR

चौदह किलोमीटर बाद यानी गौरीगंज में ये जनविश्वास यात्रा इतनी बड़ी हो गई थी कि आधा किलोमीटर इलाके में केवल सफेद टोपियां ही नज़र आ रही थीं। अमेठी से गौरीगंज तक जितने गांव पड़े, उनके लोग अपने-अपने इलाके से शामिल होते रहे। दूर गांवों से आने वाले जो लोग लेट हो गए थे, उन्होंने भी रैली को आखिरकार पकड़ लिया और साथ हो गए।

कुमार विश्वास और साथियों को पंद्रह किलोमीटर पैदल चलने में साढ़े चार घंटे लगे। आम आदमी पार्टी और अन्य में फर्क यह है कि इनके कार्यकर्ता सड़क के एक तरफ चल रहे थे और कहीं भी रास्ता जाम नहीं होने दे रहे थे। अगर कहीं कुछ होता तो कार्यकर्ता खुद ट्रैफिक पुलिस का रोल निभाते हुए गाड़ियां पास करा देते। भीड़ इतनी बढ़ गई थी कि रास्ता बार-बार जाम होता रहा। स्वागत भी जगह-जगह खूब हुआ।

WD|
जब अपनी नामाकंन पद यात्रा 'जन विश्वास यात्रा' लेकर अमेठी मुख्यालय से चले तो सैकड़ा भर लोग रहे होंगे, जिनमें भी बाहरी कार्यकर्ता ज्यादा थे। मगर जैसे-जैसे वे आगे बढ़ते गए लोग आकर उनके कारवां में शरीक होते रहे।
कुमार विश्वास की इस पदयात्रा ने अचानक मानो एक माहौल अमेठी में बना दिया और बसों में, टैंपो में, चाय की दुकानों पर, चौराहों पर चर्चा का विषय अचानक यह हो गया कि चुनाव तो कुमार विश्वास लड़ रहे हैं और इस बार राहुल को कड़ी टक्कर है। नामांकन तो खैर और लोगों ने भी भरे मगर न तो किसी के पास इतनी भीड़ थी और ना ही भीड़ में वो उत्साह था।

अगले पन्ने पर, कुमार की रैली का क्या था खास...


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :